जागरण संवाददाता, हिसार : जैसे-जैसे अतंरराष्ट्रीय एयरपोर्ट की दिशा में हिसार आगे बढ़ रहा है वैसे ही यहां संभावनाओं के द्वार खुलते जा रहे हैं। हिसार एयरपोर्ट के लिए 4200 एकड़ जमीन देने के बाद प्रशासन अब राजकीय पशुधन फार्म (जीएलएफ) की 3000 एकड़ जमीन देने की तैयारी कर रहा है। इस जमीन पर एयरपोर्ट आने के बाद होटल इंडस्ट्रीज जैसे उद्योग लगेंगे। प्रशासन ने अपनी ओर से जमीन चिह्नित कर ली है और किसी भी समय सरकार के आदेश पर यह एयरपोर्ट अथॉरिटी को ट्रांसपोर्ट कर दी जाएगी।

बरवाला रोड पर राणा माइनर के पास जीएलएफ की काफी जमीन खाली पड़ी है। इस जमीन में कुछ हिस्सा पुलिस लाइन का भी है जो खाली पड़ा है। हिसार का हवाई हड्डा जल्द ही इंटीग्रेटिड एविएशन हब के रूप में विकसित हो रहा है। इसके लिए प्रदेश सरकार काम कर रही है। इसके विकास के लिए कई कदम उठाए गए हैं। सरकार के आदेश पर ही तीन हजार एकड़ जमीन का सर्वे कर उसे चिह्नित किया गया है यह जमीन पर बरवाला रोड पर है। एयरपोर्ट बनने के बाद इसका मेन गेट चंडीगढ़ हाईवे पर होगा। इसी गेट के सामने इंडस्ट्रीज विकसित की जाएगी।

यह सब होगा हिसार एयरपोर्ट पर

-यात्री हवाई अड्डा

-फिक्सड बेस आप्रेशन

-रख-रखाव, मरम्मत

-कारगो, डिफेंस विनिर्माण

-एयरोस्पेस विनिर्माण

-विमानन प्रशिक्षण केन्द्र

-विमानन विश्वविद्यालय

-एयरोट्रोपोलिस- वाणिज्यिक एवं एयरोट्रोपोलिस-आवासीय

देशी-विदेशी कंपनियों को मिलेगा मौका

हिसार एयरपोर्ट पर होटल व अन्य इंडस्ट्रीज बनाने के लिए भारतीय व विदेशी कंपनियों को मौका दिया जाएगा। इस परियोजना के लिए हिसार हवाई अड्डें के सामने लगभग 3000 एकड़ सरकारी भूमि निर्धारित की गई है।

चार नए हैंगर बनकर हो गए हैं तैयार

हिसार हवाई अड्डे पर दो नए हैंगरों को बनाया गया है। दो हैंगर का निर्माण पहले ही हो चुका है। 35 लाख रुपये की लागत से एक वीआइपी लॉज बनाया जा रहा है। इसके अलावा 40 लाख रुपये की लागत से एयरपोर्ट से बाईपास को मिलाने वाली सड़क का निर्माण भी किया जा चुका है।

अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के रूप में विकसित होगा

हिसार एयरपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के रूप में विकसित किया जाएगा। यहां उड़ान योजना से लेकर अन्य योजनाओं को भी लागू किया जाएगा। एयरपोर्ट आने के बाद हिसार शहर काफी तरक्की करेगा। यहां हर बड़े से लेकर छोटे उद्योग की संभावनाएं बन जाएगी।

हिसार के चारों तरफ नेशनल हाईवे

हिसार में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बनने की प्रबल संभावना इसलिए भी बन जाती है क्योंकि हिसार के चारों और नेशनल हाईवे है। दिल्ली, चंडीगढ़, पंजाब और राजस्थान जाने के लिए हिसार नेशनल हाईवे से पूरी तरह कनेक्ट है।

-----------

- हिसार एयरपोर्ट के लिए हाल ही में 3000 एकड़ जमीन का सर्वे कर चिह्नित की गई है। सरकार के आदेशानुसार इसे एयरपोर्ट अथॉरिटी के नाम ट्रांसफर कर दिया जाएगा।

- निखिल गजराज, उपायुक्त, हिसार।

Posted By: Jagran