संवाद सूत्र, साल्हावास : सीआरपीएफ के जवान ने प्रेमिका से विवाह करने के लिए अपनी पत्नी की गला घोंटकर हत्या कर दी। बाद में उसके शव को भिवानी से करीब 100 किलोमीटर का सफर तय करके सोनीपत की नहर में फेंक आया। हत्या को अंजाम देने के बाद खुद ही थाने जाकर पत्नी की गुमशुदा होने की शिकायत दे दी। इसी बीच मृतका का शव अकेहड़ी मदनपुर के पंप हाउस में मिला। जब पुलिस को संदेह हुआ तो सीआरपीएफ जवान से ही सख्ती से पूछताछ की। जिसमें उसने अपनी पत्नी की हत्या व शव को नहर में फेंकने के मामले का खुलासा किया।

साल्हावास थाना के प्रभारी रामकरण दहिया ने बताया कि 6 अक्टूबर को अकेहड़ी मदनपुर पंप हाउस में एक महिला का शव मिला था। मृतका का शव सफेद कट्टे में बंधा हुआ था। वहीं मृतका के हाथ-पैर भी बंधे हुए थे। जिसकी सूचना मिलते ही पुलिस डीएसपी नरेश कुमार के नेतृत्व में घटनास्थल पर पहुंची और जांच आरंभ कर दी। शुरूआत में मृतका की पहचान नहीं हो पाई थी। इसलिए पुलिस के समक्ष ब्लाइंड मर्डर की इस गुत्थी को सुलझाना चुनौती था। पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी।

ताकि महिला की पहचान हो सके और हत्यारों तक पहुंचा जा सके। मृतक के शव का पोस्टमार्टम करवाया गया। जिससे कि महिला की हत्या संबंध में पता लगाने का प्रयास था। इसी बीच महिला की हत्या मामले में भिवानी पुलिस ने आरोपित भिवानी के गांव मनसरबास निवासी सीआरपीएफ के जवान दिनेश को गिरफ्तार किया। वहीं इसका पता लगते ही साल्हावास पुलिस आरोपित को प्रोटेक्शन वारंट पर लेकर आई। जहां पर आरोपित से हत्या मामले में पूछताछ की।

एसएचओ रामकरण दहिया ने बताया कि पुलिस पूछताछ के दौरान आरोपित दिनेश ने बताया कि वह करीब 7 साल पहले सीआरपीएफ में भर्ती हुआ था और फिलहाल करीब पांच साल से जम्मू कश्मीर में ड्यूटी दे रहा था। करीब तीन-चार साल पहले उसकी फेसबुक के माध्यम से अन्नू के साथ दोस्ती की थी। दोस्ती आगे चलकर प्यार में बदल गई और दोनों ने वर्ष 2018 में शादी की ली। इसके बाद दिनेश ने दिल्ली निवासी एक महिला से प्रेम प्रसंग शुरू कर दिया। अब दिनेश दिल्ली निवासी महिला के साथ शादी करना चाहता था।

लेकिन इसके बीच में उसकी पत्नी अन्नू रोडा बन रही थी। जिस कारण से दिनेश ने अपनी पत्नी को ही रास्ते से हटाने की ठान ली। दिनेश ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उसने 2 अक्टूबर को घर पर ही अपनी पत्नी की गला घोंटकर हत्या कर दी। इसके बाद अन्नू के शव के हाथ-पैर बांधकर एक कट्टे में पैक किया और लाश को ठिकाने लगाने के लिए चल पड़ा। मोटरसाइकिल पर अपनी पत्नी के शव को लेकर करीब 100 किलोमीटर दूर सोनीपत पहुंचा। जहां पर जेएलएन नहर में अन्नू के शव को फेंक दिया।

उसने सोचा था कि उसकी पत्नी की हत्या का राज नहीं खुलेगा। इसलिए वह रात के समय करीब 100 किलोमीटर दूर का सफर तय करके सोनीपत पहुंचा था। वहीं इसके बाद दिनेश ने वापस घर जाकर पुलिस को शिकायत दी कि उसकी पत्नी अन्नू लापता हो गई है। इसके बाद 6 अक्टूबर को मृतका का शव अकेहड़ी मदनपुर पंप हाउस में में मिला। झज्जर पुलिस हत्या का मामला दर्ज करके जांच कर रही थी तो भिवानी पुलिस ने लापता होने का मामला दर्ज करके तलाश कर दी पुलिस को दिनेश की बातों पर ही संदेह होने लगा। आरोपित दिनेश की फोन काल डिटेल भी खंगाली। पुलिस ने दिनेश से सख्ती के साथ पूछताछ की तो उसने इस वारदात का खुलासा किया।

Edited By: Manoj Kumar