जागरण संवाददाता, रोहतक। 12वीं पास विद्यार्थियों के लिए यूजी डिग्री में एडमिशन का सुनहरा अवसर है। इस बार कालेजों में ऊंची रही कटआफ से बहुत से अभ्यर्थी ऐसे हैं जिनका एडमिशन नहीं हो पाया है। ए-प्लस ग्रेड महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (एमडीयू) के दूरस्थ शिक्षा निदेशालय (डीडीई) ने यूजी-पीजी कोर्स में एडमिशन के लिए शेड्यूल जारी कर दिया गया है। सत्र 2021-22 के लिए विवि ने नए कोर्स भी डिस्टेंस एजुकेशन के तहत शामिल किए हैं। ओपन एंड डिस्टेंस माध्यम से एमए हिस्ट्री, मास्टर आफ लाइब्रेरी एंड इंर्फोमेशन साइंस और दो वर्षीय मास्टर आफ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन कोर्स शुरू किया गया है।

यूजी डिग्री कर चुके अभ्यर्थी आनलाइन माध्यम से भी इस बार पढ़ाई कर पाएंगे। डीडीई ने दो पीजी कोर्स आनलाइन मोड में शुरू किए हैं। एमएससी गणित और एमकाम कोर्स इस मोड में शुरू कर दिए गए हैं। यूजी और पीजी कोर्स में एडमिशन के लिए आनलाइन आवेदन शुरू हो गए हैं। एमडीयू की वेबसाइट पर अप्लाई करना होगा। 15 नवंबर आवेदन की अंतिम तिथि निर्धारित की गई है। इस तिथि तक आवेदन करने पर किसी प्रकार की लेट फीस नहीं लगेगी। इसके बाद 25 नवंबर तक आवेदन करने पर 500 रुपये लेट फीस का प्रावधान किया गया है। छह दिसंबर तक आवेदन पर एक हजार रुपये और इसके बाद 15 दिसंबर तक आवेदन करने पर लेट फीस 1500 रुपये देनी होगी। निदेशक डीडीई प्रो. नसीब सिंह गिल ने बताया कि 15 दिसंबर के बाद एडमिशन के लिए आवेदन स्वीकार नहीं किए जाएंगे।

12वीं पास के लिए बीए, बीकाम कोर्स

एमडीयू के डीडीई में 12वीं के बाद दो कोर्स में एडमिशन स्वीकार किए जाते हैं। अभ्यर्थी बीए पास और बीकाम कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं। डीडीई के कोर्स का विवरण, पात्रता इन्फॉर्मेशन ब्रोशर में दी गई है। यह विवि की वेबसाइट पर निशुल्क उपलब्ध है। एडमिशन से संबंधित जानकारी के लिए अभ्यर्थी किसी भी कार्य दिवस पर डीडीई कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं। डीडीई, एमडीयू के गेट नंबर-1 और गेट नंबर-2 से पैदल दूरी पर स्थित है।

इन कोर्स में ले सकते हैं एडमिशन

1. बैचलर आफ आर्ट (बीए)

- पहला वर्ष (पहला और दूसरा सेमेस्टर)

- दूसरा वर्ष (तीसरा और चौथा सेमेस्टर)

- तीसरा वर्ष (वार्षिक स्कीम)

2. बैचलर आफ कामर्स (बीकाम)

- पहला वर्ष (पहला और दूसरा सेमेस्टर)

- दूसरा वर्ष (तीसरा और चौथा सेमेस्टर)

- तीसरा वर्ष (वार्षिक स्कीम)

3. मास्टर आफ आर्ट्स (एमए)

पहला वर्ष (पहला और दूसरा सेमेस्टर) और दूसरा वर्ष (तीसरा और चाैथा सेमेस्टर)

हिंदी, इंग्लिश, संस्कृत, पालीटिकल साइंस, पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन, इकोनामिक्स

4. मास्टर आफ आर्ट्स (एमए)

पहला वर्ष (पहला और दूसरा सेमेस्टर)

हिस्ट्री, जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन

5. एमए (हिस्ट्री)

वार्षिक स्कीम (अंतिम वर्ष - सत्र 2017-18 में जिन्होंने रजिस्ट्रेशन कराया)

6. मास्टर आफ लाइब्रेरी एंड इंर्फोमेशन साइंस

(पहला वर्ष : पहला और दूसरा सेमेस्टर)

7. मास्टर आफ कामर्स (एमकाम)

पहला वर्ष (पहला और दूसरा सेमेस्टर) और दूसरा वर्ष (तीसरा और चौथा सेमेस्टर)

8. मास्टर आफ साइंस (मैथेमेटिक्स)

 पहला वर्ष (पहला और दूसरा सेमेस्टर) और दूसरा वर्ष (तीसरा और चौथा सेमेस्टर)

आनलाइन मोड के कोर्स

- मास्टर आफ साइंस (मैथेमेटिक्स) : पहला वर्ष (पहला और दूसरा सेमेस्टर)

- मास्टर आफ कामर्स (एमकाम) : पहला वर्ष (पहला और दूसरा सेमेस्टर)

यह है एडमिशन शेड्यूल

- आवेदन की तिथि (बिना लेट फीस) : 15 नवंबर 2021

- आवेदन की तिथि (500 रुपये लेट फीस) : 25 नवंबर 2021

- आवेदन की तिथि (1000 रुपये लेट फीस) : छह दिसंबर 2021

- आवेदन की तिथि (1500 रुपये लेट फीस) : 15 दिसंबर 2021

डिजिटल टीचिंग-लर्निंग प्रक्रिया लोकप्रिय हो रही है

एमडीयू रोहतक के कुलपति प्रो. राजबीर सिंह ने बताया कि डीडीई के सभी कोर्स यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमिशन (यूजीसी) के डिस्टेंस एजुकेशन बोर्ड से मान्यता प्राप्त हैं। वर्तमान आइसीटी युग है। डिजिटल टीचिंग-लर्निंग प्रक्रिया लोकप्रिय हो रही है, एमडीयू ने पहल करते हुए पीजी स्तर पर एमकाम और एमएससी (गणित) डिग्री आनलाइन मोड से प्रारंभ करने का निर्णय लिया है। विवि में बेहतर शैक्षणिक माहौल है। इंफ्रास्ट्रक्चर बेहतर है। ए-प्लस ग्रेड विवि से पढ़ाई का अवसर यहां मिलता है।

Edited By: Rajesh Kumar