जागरण संवाददाता, हिसार: मानसून से पहले जलभराव न हो, इसके लिए पब्लिक हेल्थ विभाग ने लाख तैयारियों के दावे किए। प्रशासन ने भी मानसून से पहले विभागों को चेता दिया था। मगर मानसून के 24 दिन बीतने बाद कुल 130 एमएम बारिश ने प्रशासन और पब्लिक हेल्थ विभाग के दावों की पोल खोल कर रख दी है। सोमवार को 22 एमएम बारिश के कारण शहर के कई स्थान जलमग्न दिखाई दिए। इन क्षेत्रों से निकलने के लिए राहगीरों को पानी के बीच से होकर गुजरना पड़ा। इसमें पटेल नगर, अर्बन एस्टेट- 2, कैमरी रोड, इंडस्ट्रियल एरिया आदि स्थान शामिल हैं। इधर एक तरफ जलभराव हुआ तो दूसरी तरफ डीसी डा. प्रियंका सोनी शहर में जलभराव की स्थिति देखने पहुंचीं। उन्होंने जहां संबंधित विभागों के अधिकारियों को व्यवस्था दुरुस्त रखने के निर्देश दिए, वहीं लोगों से भी सीवर में कचरा न डालने की अपील की। डीसी ने अपने निरीक्षण में अधिकारियों को सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट को पूरी क्षमता से चलाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने स्पष्ट कहा कि बरसात के पानी की निकासी की समुचित व्यवस्था करवाई जाए और जल भराव के कारण लोगों को किसी प्रकार की समस्या न होने दी जाए। इस दौरान जनस्वास्थ्य विभाग के अधीक्षक अभियंता टीआर पंवार तथा एक्सईएन संजीव त्यागी भी उनके साथ रहे।

----------------

प्लांट की मशीनरी ठीक कराई जाए

उपायुक्त डा. प्रियंका सोनी ने सबसे पहले ऋषि नगर स्थित 40 एमएलडी क्षमता के एसटीपी (सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट) के निरीक्षण के दौरान कहा कि प्लांट की मशीनरी की नियमित अंतराल पर मरम्मत करवाई जाए ताकि यह पूरी क्षमता से कार्य कर सके। इसके बाद उपायुक्त ने सुंदर नगर के बूस्टिग स्टेशन का भी निरीक्षण किया और यहां की कार्यप्रणाली का जायजा लेते हुए अधिकारियों को विशेष दिशा-निर्देश दिए।

----------------

सीवरेज लाइनों को साफ रखा जाए ताकि निकासी हो सके

उपायुक्त ने कहा कि आगामी दिनों में हिसार में अच्छी बरसात होने की उम्मीद है जिसके चलते शहर में जलभराव से बचने के लिए पानी की निकासी की समुचित व्यवस्था होनी बेहद जरूरी है। इसके लिए बरसाती पानी व सीवरेज की लाइनों को क्लीयर रखा जाए और इनके प्लांट भी प्रतिदिन पूरी क्षमता से चलाए जाएं। जहां नई पाइप लाइन डालने के कार्य चल रहे हैं उन्हें भी प्राथमिकता के आधार पर पूरा करवाया जाए ताकि जलभराव की स्थिति का सामना न करना पड़े। अधीक्षक अभियंता ने उपायुक्त को बताया कि अधिक बरसात होने की स्थिति में निचले क्षेत्रों में कुछ घंटों तक पानी का जमाव हो जाता है लेकिन समय के साथ इसकी निकासी हो जाती है।

------------

डीसी ने लोगों से की अपील

उपायुक्त ने शहरवासियों से अपील की कि वह पशुओं का गोबर, ठोस कचरा और पॉलीथिन आदि वस्तुएं सीवर में न बहाएं। ऐसा करने से सीवरेज व्यवस्था जाम हो जाती है और जलभराव की समस्या पैदा होती है। कुछ लोगों की लापरवाही व स्वार्थ के चलते पूरे शहर को परेशानी का सामना करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि अपने शहर को साफ-सुथरा, कूड़े-कचरे से मुक्त रखना और व्यवस्था बनाए रखना हम सबकी सामूहिक जिम्मेदारी है जिसका हम सभी को पालना करना चाहिए।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस