संवाद सहयोगी, बादशाहपुर:

सेक्टर-70 की टयूलिप सोसायटी का उपमंडल अधिकारी ने सेफ्टी ऑडिट शुरु कर दिया है। उनकी टीम ने सोसायटी में पहुंचकर पूरी सोसायटी का निरीक्षण किया। लोगों में बिल्डर के प्रति अभी भी गुस्सा बरकरार है। आरडब्ल्यूए के प्रधान का कहना है कि बिल्डर को किसी तरह की कोई क्लीनचिट नहीं दी गई है।

पिछले सप्ताह रविवार-सोमवार की रात को करीब दो बजे टयूलिप सोसायटी में बिजली के मीटर में शॉर्ट-सर्किट होने की वजह से आग लग गई थी। इसमें एक महिला स्वाति की दम घुटने के कारण उसी समय मौत हो गई थी। उसकी सास वैशाली ने भी तीन दिन बाद अस्पताल में दम तोड़ दिया था। सास- बहू की मौत के बाद लोगों में बिल्डर के प्रति काफी आक्रोश है। सोसायटी के लोगों ने इस मामले में बिल्डर व मरम्मत का काम देख रही एपल कंपनी प्रबंधन के खिलाफ लापरवाही का मामला दर्ज कराया था। दो दिन बाद बिल्डर ने आरडब्ल्यूए के पदाधिकारियों के साथ मिलकर एपल कंपनी के कर्मचारियों को आगजनी के दौरान साहसिक कार्य करने के लिए सम्मानित कर दिया। इस पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। लोगों ने बिल्डर के खिलाफ 12 अक्टूबर को जमकर नारेबाजी की। उसके बाद एसडीएम ने इस पूरे मामले में सेफ्टी ऑडिट कराने का लोगों को आश्वासन दिया। एसडीएम की टीम तहसीलदार जितेंद्र शर्मा की अगुवाई में सोमवार को सोसायटी में पहुंची। पूरी सोसायटी की जांच पड़ताल की गई। लोगों ने टीम के सदस्यों को बिल्डर की खामियां बताईं।

--------------

बिल्डर को अभी किसी प्रकार की क्लीनचिट नही दी गई है। उनकी तरफ से जिस तरह की लापरवाही बरती गई। उनके लिए बिल्डर ही जिम्मेदार है। एसडीएम ने जांच शुरु कर दी है।

- खुशाल ¨सह, प्रधान, आरडब्ल्यूए, टयूलिप सोसायटी

-------------

टयूलिप सोसायटी का सेफ्टी ऑडिट शुरु कर दिया गया है। इस मामले में डीटीपी की टीम को साथ लेकर पूरा निरीक्षण किया जाएगा। जिस प्रकार की कमियां पाई जाएगी। उसके लिए दोषी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

- संजीव ¨सगला, एसडीएम, गुरुग्राम

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप