संवाद सहयोगी, पटौदी: पंजाब तथा हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति और गुरुग्राम सेशन डिवीजन के प्रशासनिक जज अजय तिवारी ने कहा कि न्यायिक व्यवस्था से जुड़े लोग बेहतर सेवा की नजीर पेश करें। आमजन को उनसे उम्मीद भी बहुत होती है। बेहतर गुणवत्ता का पैमाना हम खुद ही तय कर सकते हैं। अधिवक्ता से लेकर सिस्टम से जुड़ा हर व्यक्ति अपनी जिम्मेदारी समझेगा तो लोगों को न्याय मिलने में देर नहीं लगेगी। उन्होंने यह बात शनिवार को पटौदी के उपमंडलीय न्यायालय के नए परिसर का लोकार्पण करते हुए कही।

न्यायमूर्ति अजय तिवारी ने अपनी युवावस्था के अनुभव साझा करते हुए कहा कि पहले न्यायालयों में सुविधाओं का नितांत अभाव था। परंतु पिछले चालीस वर्षों में सुविधाएं बढ़ी हैं। न्यायालय का नया परिसर बनने से लोगों और अधिवक्ताओं को बेहतर सुविधा मिल पाएगी। पटौदी में अतिरिक्त सेशन जज की कोर्ट स्थापित करने की लोगों की मांग को लेकर न्यायमूर्ति ने कहा अभी उपमंडल स्तर पर यह कोर्ट स्थापित करने की नीति नहीं बनी है तथा पंजाब तथा हरियाणा के तहत किसी भी उपमंडल न्यायालय में यह कोर्ट नहीं है। उन्होंने कहा कि कानून समाज की अपेक्षाओं के आधार पर बनते हैं तथा समय-समय पर उनमें सुधार होता ही रहता है। यह विधायिका को ही तय करना होता है किन में बदलाव किया जाए। एक अन्य प्रश्न के उत्तर में उन्होंने बताया कि पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के तहत नौ नए न्यायालय परिसर का निर्माण चल रहा है तथा एक दो तो अंतिम चरण में हैं।

इस अवसर पर पंजाब तथा हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति राजेश भारद्वाज, अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश डीएन भारद्वाज, एडीजे एके मेहता, एडीजे अमित सहरावत, एडीजे फलित शर्मा, एडीजे नरेंद्र कौर, एडीजे जसबीर सिंह, सीजेएम अनिल कौशिक, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव ललित पटवर्धन, एसडीजेएम तरन्नुम खान, सिविल जज मोहम्मद सगीर, सिविल जज साक्षी सैनी, सिविल जज अर्चना, अतिरिक्त सिविल जज मानसी धीमान, जिला उपायुक्त डॉ. यश गर्ग, एसडीएम प्रदीप यादव, पूर्व विधायक रामबीर सिंह, एसीपी बीर सिंह, तहसीलदार सज्जन सिंह, नायाब तहसीलदार प्रदीप पाहवा तथा अनेक अधिवक्ता तथा गणमान्य लोग उपस्थित थे।

Edited By: Jagran