जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: डीएलएफ फेज-टू में फ्लोर बेचने का एग्रीमेंट कर दिल्ली निवासी बुजुर्ग से डेढ़ करोड़ रुपये की ठगी कर ली गई। मकान तैयार होने के बाद पीड़ित को कब्जा नहीं दिया जा रहा है। यही नहीं धमकी भी दी जा रही है। पीड़ित ने सुशांत लोक थाना में एफआइआर दर्ज कराई है। आर्थिक अपराध शाखा की टीम मामले में जांच कर रही है।

दिल्ली के वेस्ट पंजाबी बाग निवासी बुजुर्ग हंसराज ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि डीएलएफ के आकाशमीन मार्ग निवासी जसमीर सिंह और गुरबानी कौर ने फर्जी दस्तावेज तैयार कर उनके साथ ठगी की है। शिकायतकर्ता ने बताया कि वर्ष 2018 में दोनों से उनकी मुलाकात हुई थी। जसबीर ने बताया कि वह बिल्डर हैं और बेहतर क्वालिटी के फ्लोर बनाकर बेचते हैं। आरोपितों ने कहा कि डीएलएफ फेज-4 में इनके पास 270 गज का प्लाट है जिसमें निर्माण चल रहा है। यदि इसमें फ्लोर खरीदना है तो काफी सस्ती दर पर किस्तों में रकम ले लेंगे। फ्लोर बनते ही रजिस्ट्री करा देंगे।

हंसराज झांसे में आ गए और साइट पर देख भी आए। एक करोड़ 74 लाख रुपये में सौदा तय हुआ और तभी 100 रुपये का स्टांप पेपर आनलाइन निकलवाकर एग्रीमेंट टू सेल तैयार किया गया। बयाने के रूप में 39 लाख रुपये दिए गए। दस लाख के चेक तथा बाकी राशि कैश में दी गई। अब तक शिकायतकर्ता की ओर से डेढ़ करोड़ रुपये दिए जा चुके हैं। पीड़ित का कहना है कि इमारत बनने के बाद रजिस्ट्री कराने को कहा तो आरोपित आना-कानी करने लगे और जोर देने पर धमकी दी।

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है कि आरोपित ने इस प्लाट पर लोन लिया हुआ है। लेकिन एग्रीमेंट करते समय इस बारे में नहीं बताया गया। 16 अगस्त को मामले की शिकायत पुलिस को दी गई। जिस पर प्राथमिक जांच के बाद बुधवार देर रात सुशांत लोक थाना में मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी गई।

Edited By: Jagran