संदीप रतन, गुरुग्राम

साइबर सिटी में बल्क यूजर्स (पानी और सीवर के बड़े उपभोक्ता) के लिए गुरुग्राम मेट्रोपॉलिटन डेवलपमेंट अथॉरिटी ने नई दर तैयार कर ली हैं। ये दरें एक अक्टूबर यानि अगले माह से लागू हो जाएंगी। इसके साथ ही पानी की बर्बादी रोकने का इंतजाम भी जीएमडीए की ओर से किया गया है। बल्क यूजर्स को पानी के मीटर भी लगाने होंगे। अगर मीटर खराब पाया तो जीएमडीए द्वारा जुर्माना लगाया जाएगा। पूरे शहर में पानी की सप्लाई जीएमडीए (गुरुग्राम मेट्रोपॉलिटन डेवलपमेंट अथॉरिटी) द्वारा की जा रही है। इससे पहले हुडा आपूर्ति करता था, लेकिन अब जीएमडीए ने सीवर और पेयजल को टेकओवर कर लिया है। नगर निगम के क्षेत्र में जीएमडीए पेयजल उपलब्ध करवा रहा है और इसका बिल निगम से वसूलेगा। इसी तरह शहर की बिल्डर कॉलोनियों और सोसायटी में भी जीएमडीए ही पानी का बिल वसूलेगा।

10 की जगह अब 9 रुपये प्रति किलो लीटर होगा रेट

नगर निगम क्षेत्र और लाइसेंसी कॉलोनियों को पेयजल आपूर्ति के लिए 10 रुपये की जगह 9 रुपये प्रति किलोलीटर के हिसाब से भुगतान करना होगा। इसी तरह सीवर के लिए पानी के कुल बिल का 20 प्रतिशत और यदि लाइसेंसी कॉलोनी में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगा हुआ है तो पानी के बिल का 50 प्रतिशत देना होगा। जीएमडीए के इंट्रीग्रेटड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में रियल टाइम डाटा देने के लिए बिल्डरों को ऑनलाइन मॉनीट¨रग सिस्टम भी पानी और सीवर के कनेक्शनों पर लगाना होगा। सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और एनजीटी के मानकों पर ही लगाना होगा। इसके अलावा पानी और सीवर कनेक्शन के साइज के आधार पर भी कनेक्शन राशि निर्धारित की गई है। हर साल नए वित्त वर्ष के पहले दिन दर में 5 प्रतिशत के हिसाब से इजाफा हो जाएगा। मीटर खराब हुआ तो पांच गुना जुर्माना

पानी का मीटर खराब होने पर नगर निगम, बिल्डर या किसी भी बल्क यूजर को इसकी सूचना खुद देनी होगी। अगर पेयजल आपूर्ति पर लगा मीटर अगर एक माह से खराब पड़ा है तो पानी के पिछले बिल का पांच गुना जुर्माना लगाया जाएगा। इसके साथ ही अगर मीटर दो माह से खराब है तो कनेक्शन काट दिया जाएगा। पानी की चोरी और बर्बादी को रोकने के लिए अब जीएमडीए द्वारा सख्ती बरती जाएगी।

बल्क यूजर्स के लिए पानी और सीवर की नई दरें एक अक्टूबर से लागू कर दी जाएंगी। पानी की चोरी और बर्बादी को रोकने के लिए भी जीएमडीए सख्ती बरतेगा।

ललित अरोड़ा, एसई जीएमडीए।

Posted By: Jagran