Move to Jagran APP

अब गर्मी में भी कूल-कूल रहेंगे पुलिस के जवान, आ गई AC वाली जैकेट; जानिए कैसे करती है काम

तपती-जलती गर्मी के बीच जहां लोग अपने घरों से कम से कम निकल रहे हैं वहीं ट्रैफिक पुलिस की जॉब ऐसी है जिन्हें हर हाल में सड़कों पर मुस्तैद रहना पड़ता है। ट्रैफिक के जवानों की इसी परेशानी को देखते हुए गुरुग्राम पुलिस एक हल लेकर आई है जिसका ट्रायल रन चल रहा है और सफल होने पर अन्य पुलिसवालों को भी इसे मुहैया कराया जाएगा यह है एसी जैकेट।

By Vinay Trivedi Edited By: Pooja Tripathi Tue, 18 Jun 2024 01:02 PM (IST)
गुरुग्राम में एसी जैकेट से कूल हो रहे ट्रैफिक पुलिसकर्मी। जागरण

जागरण संवाददाता, गुरुग्राम। भीषण गर्मी में चौराहों पर ड्यूटी पर तैनात यातायात पुलिस के 13 जोनल अधिकारियों को एयर कूलिंग जैकेट दी गई है।

कूलिंग जैकेट में बर्फ के पैड डाले गए हैं और साथ में दो पंखे भी लगे हैं। इससे भीषण गर्मी से पुलिसकर्मियों को राहत मिलने की उम्मीद है। इस जैकेट वजन करीब तीन किलो है।

ट्रैफिक डीसीपी विरेंद्र विज ने बताया कि 13 जोनल अधिकारियों को प्रचंड गर्मी से बचाव के लिए एयर कूलिंग जैकेट ट्रायल के तौर वितरित की है।

ट्रायल रन सफल रहा तो...

ये सभी जोनल अधिकारी अपने-अपने चेकिंग प्वाइंट्स पर इन जैकेटों को पहन कर ड्यूटी कर रहे हैं। एक सप्ताह बाद इस जैकेट के बारे में पुलिसकर्मी सुझाव भी साझा करेंगे। अगर ट्रायल सफल रहा तो अन्य सभी यातायात पुलिसकर्मियों को इसी तरह की जैकेट दी जाएगी।

कैसे करती है काम

एसीपी ट्रैफिक मुख्यालय सुखबीर सिंह ने बताया कि एयर कूलिंग जैकेट का वजन तीन किलो के करीब है। इस जैकेट में दो पार्ट हैं। एक अंदर और एक बाहर।

अंदर वाली जैकेट में बर्फ के पैड हैं। इन्हें फ्रीजर में जमाया जाता है। ऊपर वाली जैकेट में सी टाइप चार्जर के साथ दो पंखे लगे हैं, ये पावर बैंक से कनेक्ट होकर चलते हैं।

कुछ जोनल अधिकारियों ने बताया है कि इनको पहनकर जब वह रोड पर ड्यूटी करने गए तो उनको अंदर से ठंडक महसूस हुई।

जोनल अधिकारी मनफूल ने बताया कि गुरुग्राम पुलिस की ये अच्छी पहल है। सुबह से शाम तक ड्यूटी के दौरान शरीर पूरी तरह भीषण गर्मी से झुलस जाता है। इस जैकेट को पहनने से कुछ राहत जरूर मिली है।

जैकेट में चुनौतियां भी आ रही सामने

कुछ जोनल अधिकारियों ने बताया कि ट्रायल के तौर पर दी गई जैकेट में चुनौतियां भी हैं। जैकेट भारी है। बर्फ की पैड ढाई घंटे में ही पिघल जाती है। फिर से पैड को जमाने के लिए फ्रिजर की जरूरत पड़ती है। ऐसे में ड्यूटी के दौरान इन्हें कहां जमाया जाएगा।

हीट स्ट्रोक से होगा बचाव

यातायात पुलिस की यह अच्छी पहल है। इस जैकेट से हीट स्ट्रोक होने से बचाव होगा। इसे तापमान असंतुलन नहीं कहेंगे। बल्कि इससे शरीर का तापमान सही रहेगा। इस जैकेट के पहनने से स्वास्थ्य संबंधी कोई भी समस्या नहीं होगी।-डॉ. दीपक माथुर, फारेंसिक विशेषज्ञ