संवाद सहयोगी, फरुखनगर: समाज के उत्थान व युवाओं के चरित्र निर्माण को निरंतर प्रयासरत संस्था यज्ञ योग साधना केंद्र द्वारा अखेराम सरदारों देवी आत्म शुद्धि आश्रम में पितृ अमावस्या के मौके पर मासिक सत्संग का शुभारंभ किया गया। सत्संग का आगाज यज्ञ के साथ हुआ। इस अवसर पर स्वामी सच्चिदानंद ने कहा कि मनुष्य को आत्म गौरव, धर्म गौरव व राष्ट्र गौरव की अनुभूति होनी चाहिए। जब इंसान के अंदर ये भाव उत्पन्न होंगे तभी वे आत्मरक्षा, धर्म रक्षा और राष्ट्र रक्षा कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि समाज में धर्म की स्थापना और लोगों में धार्मिक गौरव पैदा करने के लिए ये अत्यंत आवश्यक है कि साधु और सन्यासी समाज के लिए प्रेरणा बनें। इस मौके पर स्वामी धर्ममुनि, राजबीर आर्य, पंडित रमेश चंद्र वैदिक, जयनारायण, उमेद ¨सह, देवेंद्र आर्य, र¨वद्र, आचार्य चांद ¨सह, मंजीत, अजय व विरेंद्र दौलताबाद समेत बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

Posted By: Jagran