जागरण संवाददाता, गुरुग्राम : जिला अस्पताल के गायनी वार्ड के शौचालय में एक महिला ने बच्चे को जन्म दिया है। महिला के पति का कहना हैं कि मंगलवार दोपहर पत्नी को लेकर अस्पताल आया था। कई घंटे तक इलाज शुरू नहीं हुआ। जबकि उनकी पत्नी दर्द से परेशान थी। परेशान होकर ही वह शौचालय में गई तो वहीं पर बच्चे का जन्म हुआ। वहीं पीएमओ ने इन आरोपों को गलत बताते हुए दावा किया कि महिला का गायनी वार्ड में रखकर इलाज किया जा रहा था। महिला कंचन का पति सुनील मूल रूप से सहरसा बिहार के रहने वाले हैं। वह परिवार के साथ यहां सिरहौल में रह रहे थे। सुनील का कहना है इलाज में लापरवाही की गई। शुक्र है कि पत्नी और बेटा दोनों सही हैं।

पीएमओ डॉक्टर पंकज अग्रवाल ने कहा अस्पताल में आने के बाद कंचन की जांच की गई थी और डॉक्टरों ने नॉर्मल डिलीवरी बताई थी और मरीज को डॉक्टरों ने अपनी निगरानी में रख लिया था लेकिन जब महिला को शौच जाने की इच्छा हुई तो शौचालय में डिलीवरी होने की संभावना हुई, तो स्टाफ नर्स कंचन को तुरंत बेड पर लेकर आई, जहां पर डिलीवरी कराई गई। महिला को यह तीसरा बच्चा है और जिन महिलाओं की दूसरी या तीसरी डिलीवरी होती है उनके साथ ऐसा हो जाता है।

-------

मामला सामने आया है और हमने दो डॉक्टरों की टीम बनाकर रिपोर्ट सौंपने के आदेश दिए हैं। अगर किसी की गलती मिलती है तो उस पर सख्त कदम उठाया जाएगा।

डॉ. गुलशन अरोड़ा, सिविल सर्जन गुरुग्राम

Posted By: Jagran