जासं, गुरुग्राम: जिला अदालत ने भ्रष्टाचार से जुड़े एक मामले में बादशाहपुर उप तहसील के पूर्व तहसीलदार सहित कई लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करने के आदेश दिए हैं। अदालत ने शिवाजी नगर थाना पुलिस को एफआइआर दर्ज कर आगे की जांच करने को कहा है।

मामला एक ईडब्ल्यूएस कोटे फ्लैट की रजिस्ट्री से जुड़ा है। इस्तगासा आरटीआइ कार्यकर्ता रमेश की ओर से एडिशनल सेशन जज अश्वनी कुमार की अदालत में दायर किया गया था। रमेश ने अदालत को बताया कि ईडब्ल्यूएस कोटे से आवंटित फ्लैट को पांच साल तक बेचा नहीं जा सकता। इसके बाद भी बढ़ा निवासी कमला ने फ्लैट को बेच दिया। बादशाहपुर के पूर्व तहसीलदार ने फ्लैट की रजिस्ट्री कर दी, जिसकी शिकायत पुलिस को दी गई तो पुलिस ने भी जांच सही तरीके से नहीं की।

मामले को संज्ञान में लेते हुए अदालत ने मंगलवार को शिवाजी नगर थाने को निर्देश दिए कि पूर्व तहसीलदार सहित मामले में जो भी आरोपित हैं उनके खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की जांच की जाए। अदालत ने मामले की सही तरीके से जांच नहीं करने वाले पुलिस अधिकारी को भी आरोपित बनाने के निर्देश दिए हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस