जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने कहा कि भाजपा ने सेवारत सैनिकों, पूर्व सैनिकों एवं शहीदों के परिजनों को भरपूर सम्मान दिया है। अन्य किसी दल ने सैनिकों के आश्रितों के लिए उतना कुछ नहीं किया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार ने 1962 के भारत-पाक युद्ध तक के शहीदों के आश्रितों को नौकरियां दी हैं। इन पांच साल में शहीदों के 292 आश्रितों को नौकरियां दी गई हैं। जबकि उससे पहले के 40 वर्षोँ में प्रदेश में केवल 48 शहीद आश्रितों को ही अनुकंपा के आधार पर नौकरी दी गई थी।

राव इंद्रजीत सिंह ने यह बातें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस पर मंगलवार को भाजपा के पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित पूर्व सैनिक महासम्मेलन के दौरान कही। यहां वह बतौर मुख्य अतिथि मौजूद रहे। इस महासम्मेलन में केंद्रीय विश्वविद्यालय महेंद्रगढ़ के पूर्व कुलपति मेजर जनरल (रिटा.) रणजीत सिंह ने प्रदेश की 90 विधानसभा क्षेत्रों में से एक सीट पूर्व सैनिक को देने की मांग की। कार्यक्रम में सेना के सेवानिवृत उच्च अधिकारियों, पूर्व सैनिक, शहीदों के परिजनों व स्वतंत्रता सेनानियों के परिजन बड़ी संख्या में यहां मौजूद रहे।

केंद्रीय राज्य मंत्री ने कहा कि कांग्रेस शासन में लगभग 25 वर्ष पहले रेवाड़ी में प्रदेश का दूसरा सैनिक स्कूल खोलने की बात की गई लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। भाजपा सरकार ने रेवाड़ी में सैनिक स्कूल खोला जिसके बाद देश में हरियाणा ही ऐसा प्रांत है जहां दो सैनिक स्कूल हो गए हैं। अब गांव मातनहेल में सैनिक स्कूल खोलने की बात की जा रही है। अगर यह भी खुल गया तो प्रदेश में तीन सैनिक स्कूल हो जाएंगे।

उन्होंने कहा कि गांव बिनौला में रक्षा विश्वविद्यालय बनेगा। केंद्र सरकार ने निर्णय लिया है कि यह विश्वविद्यालय संसद से कानून बना कर स्थापित किया जाएगा। महासम्मेलन में विधायक उमेश अग्रवाल, भाजपा जिला अध्यक्ष भूपेंद्र चौहान, मेयर मधु आजाद डॉ. टीसी राव सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे। केंद्रीय राज्यमंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने शहीदों के परिजनों एवं स्वतंत्रता सेनानियों के परिजनों को सम्मानित भी किया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप