जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: बढ़ते प्रदूषण के स्तर को देखते हुए गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण (जीएमडीए) द्वारा जिला में प्रोजेक्ट एयर केयर के तहत 71 एयर प्यूरीफायर स्थापित किए गए हैं। एयर प्यूरीफायर लगाने के लिए ऐसे स्थानों का चयन किया गया है, जहां पर प्रदूषण का स्तर अधिक है, जिससे कि लोगों के स्वास्थ्य पर प्रदूषण से पड़ने वाले दुष्प्रभाव को इन एयर प्यूरीफायर के माध्यम से कम किया जा सके।

जीएमडीए के अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुभाष यादव ने बताया कि जिला में इस परियोजना के तहत अगस्त-2020 में सीएसआर के तहत जीएसके कंज्यूमर हेल्थकेयर लिमिटेड द्वारा एयर प्यूरीफायर स्थापित करने की योजना शुरू की गई थी। इस परियोजना की शुरुआत मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने 11 नवंबर 2020 को की थी। इस परियोजना को इंडियन पल्यूशन कंट्रोल एसोसिएशन लागू कर रही है। सुभाष यादव ने बताया कि एक अध्ययन के अनुसार एनसीआर क्षेत्र में प्रदूषण के बढ़ने के लिए 40 फीसद जिम्मेदार वाहनों से निकलने वाला धुआं है जिसे ध्यान में रखते हुए यह परियोजना शुरू की गई है। कहां कितने प्यूरिफायर लगाए

इफको चौक 15

सिकंदरपुर मेट्रो स्टेशन 12

सेक्टर 44 6

मेदांता के समीप 8

बख्तावर चौक 8

मैक्स अस्पताल के समीप 7

एआइटी चौक 8

सेक्टर -54 मेट्रो स्टेशन के समीप 6

जीएमडीए सेक्टर 44 कार्यालय 1

प्यूरिफायर में यह है खास

इंडियन पल्यूशन कंट्रोल एसोसिएशन की डिप्टी डायरेक्टर राधा गोयल ने बताया कि एयर प्यूरीफायर की विशेष बात यह है कि यह फिल्ट्रेशन सिद्धांत पर काम करता है। लगभग पांच फुट ऊंचाई के इस एयर प्यूरीफायर में एग्जास्ट लगा है जो वातावरण के प्रदूषण फैलाने वाले कणों को सोख लेता है। एयर प्यूरीफायर के माध्यम से इसके आसपास के प्रदूषण को 40 से 50 फीसद तक कम किया जा सकता है। एसोसिएशन द्वारा इन एयर प्यूरीफायर का तीन साल तक रखरखाव किया जाएगा।

Edited By: Jagran