जागरण संवाददाता, फतेहाबाद : दो दिन पहले डीसी ने टैक्सी यूनियन के पास खाली पड़ी जगह में सब्जियों की रेहड़ी लगाने के आदेश दिए थे। शनिवार को ट्रैफिक पुलिस की सहायता से इन रेहड़ियों को लगवा भी दिया गया। पुलिस के जाने के बाद टैक्सी यूनियन के सदस्यों ने इन रेहड़ीवालों को वहां से खदेड़ दिया और कहा कि यहां पर किसी भी कीमत पर सब्जी की रेहड़ी नहीं लगने देंगे। सभी रेहड़ी संचालक अपनी रेहड़ी नेशनल हाईवे पर लगा दी है। ऐसे में रेहड़ीवालों को जगह न मिलने का विवाद फिर गरमा गया है। ना तो स्थाई नेता इसका समाधान कर पा रहे है और ना ही जिला प्रशासन। यहीं कारण है कि पिछले सात दिनों से 60 रेहड़ी संचालक सब्जियां नहीं बेच रहे है।

कोर्ट ने जिला प्रशासन को आदेश दिया था कि नेशनल हाईवे पर किसी भी कीमत पर सब्जी की रेहड़ियां ना लगे। इन रेहड़ियों को हटाने के लिए प्रशासन का पुलिस बल भी करना पड़ा था। लेकिन स्थानीय नेताओं ने रेहड़ी के लिए कोई जगह देने की बात कही थी। जिसके बाद डीसी ने कहा था कि वे खुद शहर में जगह देखकर आएंगे और वहां पर रेहड़ियां लगवाएंगे।

---------------------------------------------

4 नवंबर को यह किया गया था तय

4 नवंबर शाम को डीसी ने शहर में विभिन्न जगह इन रेहड़ी संचालकों के लिए जगह की तलाश की। डीसी के साथ नगरपरिषद के एमई पंकज ढांडा, पीडब्लयूडी विभाग से जेई सुभाष व ट्रैफिक थाना प्रभारी रामधन भी मौजूद थे। डीसी ने पुलिस को आदेश दिए कि टैक्सी यूनियन के पास बने पार्को के बीच में अच्छी जगह है और सरकारी भी है। ऐसे में इसी जगह को फाइनल करके यहां पर रेहड़ी लगाई जाएगी। जिसके बाद नेशनल हाईवे पर लगी सही रेहड़ियों को हटवाकर शिवालय मार्केट में बने पार्क में खड़ी कर दी।

------------------------

शनिवार को खुद ट्रैफिक थाना प्रभारी ने लगवाई रेहड़ियां

शनिवार को ट्रैफिक थाना प्रभारी रामधन खुद पुलिस को साथ लेकर इन रेहड़ियों को टैक्सी यूनियन के पास पड़ी खाली जगह में रेहड़ी लगवा दी। रेहड़ी लगने के बाद जैसे ही थाना प्रभारी वापस गए तो यूनियन के सदस्यों ने रोष जताना शुरू कर दिया। यूनियन के सदस्यों ने कहा कि यह जगह हमारी है। यहां पर हम वाहन खड़े करते है ऐसे में यहां पर किसी भी कीमत पर रेहड़ी लगने नहीं दी जाएगी। कुछ रेहड़ी वालों ने कहा कि अगर रेहड़ी लगाई तो यहां पर झगड़ा भी हो सकता है। ऐसे में सभी यूनियन सदस्यों ने इन रेहड़ी संचालकों को खदेड़ दिया। इन टैक्सी स्टैंड के सदस्यों को ना तो पुलिस का डर है और ना ही डीसी के आदेश का।

-----------------------------------------

नेशनल हाईवे पर फिर लगाई रेहड़ियां

सब्जी की रेहड़ी लगाने वाले सुभाष, रमेश, दीपक, महेश, कुलदीप ने बताया कि डीसी के आदेश पुलिस ने रेहड़ी लगवा दी थी। जैसे ही पुलिस गई तो वहां से हमें भगा दिया और मारने की भी कोशिश की। जिसके बाद हमने फिर नेशनल हाईवे पर रेहड़ी लगा दी है। जब तक जिला प्रशासन हमें स्थाई जगह नहीं देगा यहां से रेहड़ी नहीं हटाएंगे। टैक्सी यूनियन के सदस्यों ने डीसी के आदेश को भी दरकिनार किया है। रेहड़ी संचालकों ने आरोप लगाया कि यहां के नेता भी हमारा सहयोग नहीं कर रहे है।

----------------------------------

नप की जिम्मेदारी है कि रेहड़ीवालों को दिलाए जगह

नगरपरिषद के अधिकारियों की जिम्मेदारी बनती है कि शहर में रेहड़ी लगाने वालों को जगह उपलब्ध करवाये। लेकिन नप के अधिकारियों के उदासीनता के कारण इन्हें रेहड़ी नहीं मिल रही है। शहर में कौन रेहड़ी लगा रहा है और इनके नाम क्या है और फोन नंबर क्या किसी को कुछ पता नहीं है। नगरपरिषद की तरफ से अभी तक सर्वे भी नहीं करवाया गया है कि शहर में कितने रेहड़ी संचालक रेहड़ी लगा रहे है। जबकि नियम ये है कि शहर में कौन रिक्शा चला रहा है और कितनी रेहड़ी व फड लग रही है इसकी जानकारी होनी चाहिए। लेकिन नप अधिकारी है कि इसमें कोई दिलचस्पी तक नहीं ले रहे है।

--------------------------------------

डीसी ने जो जगह फाइनल की है वहीं पर ही रेहड़ी लगेगी। टैक्सी यूनियन की कोई जगह नहीं है। वे भी सरकारी जगह पर टैक्सी खड़ी कर रहे है। रविवार को खुद पुलिस की निगरानी में रेहड़ी लगवाई जाएगी। अगर कोई विरोध करेगा तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। डीसी ने खुद जगह देखी है। नेशनल हाईवे पर रेहड़ी नहीं लगने दी जाएगी।

रामधन, प्रभारी ट्रैफिक, थाना फतेहाबाद।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस