संवाद सूत्र, समैन: आज की नारी कमजोर नहीं, मजबूत है। ऐसा हमें बनकर दिखाना होगा। हमें आत्मरक्षा गुर सीखकर आत्मविश्वास बढ़ाना होगा। यदि हम स्वरक्षा के गुर सीख गए तो हम कठिन से कठिन परिस्थितियों में भी अपने आत्म सम्मान की रक्षा कर सकती है। यह बात गांव समैन की सशक्त नारी अध्यापिका मंजू देवी ने गांव समैन में दैनिक जागरण द्वारा आयोजित कार्यक्रम में डीएन सीनियर सेकेंडरी स्कूल में छात्राओं को संबोधित करते हुए कही। मंजू देवी ने कहा कि दैनिक जागरण की यह मुहिम शानदार है। दैनिक जागरण की इस मुहिम से समाज में नारियों के प्रति पुरूषों की धारणा बदलेगी व उन्हें भी सम्मान की ¨जदगी जीने का हक मिलेगा। कार्यक्रम में अध्यापिका सीमा देवी, मोनिका, सुनीता रानी, रूखसाना, अंजू देवी, सीमा देवी सहित सभी स्कूल की छात्राओं ने हिस्सा लिया।

------------

स्कूल कोच ने सिखाए आत्मरक्षा के गुर

स्कूल के कोच मनवीर गिल ने छात्राओं को आत्मरक्षा के गुर सिखाए। कोच ने कहा कि जब आपको को लड़का पीछे से पकड़े तो उससे व्यक्ति से कैसे बचा जा सकता है। कोच ने कहा कि जब व्यक्ति आपको पीछे से पकड़ता है तो आपके हाथ बिल्कुल फ्री होते हैं। उन हाथों से आप पकड़ने वाले व्यक्ति पर कोहनी से वार कर सकते है। यदि गलत प्रवृति का व्यक्ति सामने से वार करता है तो उसका जवाब मुक्के से भी दिया जा सकता है।

--आत्मसम्मान बचाने के लिए यह ट्रे¨नग लेनी की सख्त जरूरत है। स्कूल के ¨प्रसिपल राजेश शर्मा ने कहा कि मौजूदा समय में समाज में कुछ भेड़िया किस्म के शरारती तत्व तेजी के साथ पनप रहे हैं। इन शरारती तत्वों से निपटने के लिए हमें इस तरह की ट्रेनिग लेनी बहुत जरूरत है।

---------------------------------------

दैनिक जागरण का प्रयास सराहनीय है। ऐसे कार्यक्रमों से लड़कियों में हिम्मत व हौसला आएगा। हमें आज की परिस्थितियों से घबराना नहीं चाहिए। स्कूल में इस तरह के कार्यक्रम आगे भी आयोजित हो इसके लिए हम स्कूल प्रबन्धन को कहेंगे।

-रूखसाना अध्यापिका, डीएन स्कूल।

--------------------

इस कार्यक्रम के लिए दैनिक जागरण की जितनी प्रशंसा की जाए उतनी कम है। इसको देखकर हमें भी बड़ा हौसला मिला है। कठिन परिस्थितियों में लड़कियों का सम्मान कैसे बरकरार रहे इसके लिए हम आगे भी इस तरह के ट्रे¨नग हम अपने बच्चों को देंगे।

सीमा, अध्यापिका।

---------------------

दैनिक जागरण की यह मुहिम बहुत ही ज्यादा सराहनीय है। आज बेटियों के माता-पिता अपनी बेटियों को घर से बाहर जाने से रोकने लगे है। लेकिन यदि इस तरह की ट्रे¨नग लड़कियों को दी जाए तो उनमें हौसला पैदा होगा।

-मोनिका, अध्यापिका।

-------------------------

महिलाओं को सशक्त करने का दैनिक जागरण का यह प्रयास बड़ा सार्थक कदम है। आने वाले दिनों में इसके बड़े अच्छे परिणाम हमारे सामने होगें। लड़कियां मजबूत होगी तो राष्ट्र मजबूत होगा। आगे भी इस तरह के कार्यक्रम नियमित हो,इसके लिए व्यवस्था होनी चाहिए।

-सुनीता, अध्यापिका।

-------------------------

दैनिक जागरण को इस कार्यक्रम के लिए तहेदिल से धन्यवाद। लड़कियां को यदि इस तरह की ट्रे¨नग दे दी जाए तो उनके माता-पिता को उनकी ज्यादा संभाल करने की जरूरत नही है। नारी का उत्थान,देश का उत्थान है। पुलिस विभाग को भी इस तरह के कार्यक्रम समय समय पर आयोजित करवाने चाहिए।

-सीमा, अध्यापिका।

------------------------

दैनिक जागरण का यह प्रयास बड़ा सराहनीय कदम है। लड़कियों में हिम्मत पैदा करने के लिए इस तरह की ट्रे¨नग की सख्त आवश्यकता है। दैनिक जागरण ने जो कदम उठाया है जिससे नारी को एक हौसला मिला है। अगर इसी तरह सहयोग मिलता रहेगा तो वो समय दूर नहीं कि हम भी आसानी से अपना जीवन व्यतीत कर सके।

-मंजू, अध्यापिका।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस