जागरण संवाददाता, फतेहाबाद:

नगरपरिषद की गाड़ियां जल्द ही हाईटेक होने वाली है। कूड़ा उठाने वाली टाटा एस में जीपीएस सिस्टम लगेगा जो सफाई कर्मचारियों पर निगरानी रखेगा। अक्सर शहरवासियों की शिकायत होती है कि ये कर्मचारी वार्ड में सफाई करने के लिए नहीं जाते हैं। जब कैमरा लग जाएगा तो निगरानी भी कड़ी होगी। इस तरह सफाई कर्मचारी भी काम के प्रति फरलो नहीं मार सकेंगे। नप अधिकारी इस प्रोजेक्ट को जल्द ही लागू करने जा रहे है। प्रोजेक्ट को उच्चाधिकारियों के पास भेज दिया है। जिसके रुपये भी जल्द जारी हो जाएंगे।

नगरपरिषद के पास 12 टाटा एस गाड़ियां है। इन्हीं गाड़ियों से शहर में से कचरा उठाया जाता हैं। इसके अलावा सफाई कर्मचारी भी इसी गाड़ी के आगे सफाई करते है और कूड़ा डालते है। हालांकि सफाई दरोगे रखे हुए है लेकिन उनकी रिपोर्ट भी सही नहीं होती है। यहीं कारण है कि अब टाटा एस के अंदर कैमरे लगेंगे।

-------------------------------

10 लाख रुपये तक का आएगा खर्च

नगरपरिषद के अधिकारियों ने इस प्रोजेक्ट पर 10 लाख रुपये लगने का अनुमान लगाया है। नप अधिकारियों ने इसकी रिपोर्ट भी उच्चाधिकारियों को भेज दी है। अब इसी महीने उम्मीद है कि यह प्रोजेक्ट पास हो जाएगा और जीपीएस सिस्टम भी लग जाएगा।

----------------------------------------

चालकों व सफाई कर्मचारियों पर रहेगी नजर

नगरपरिषद के टोल फ्री नंबर पर हर दिन मुहल्ले में सफाई न होने की 15 से अधिक शिकायतें आ रही है। इनका आरोप होता है कि उनके मुहल्ले में सफाई कर्मचारी नहीं आते है। वहीं टाटा एस चालक भी उनके घर के आगे गाड़ी नहीं रोक रहा है। लेकिन अब इन सब शिकायतों पर रोक लगने वाली है। जीपीएस सिस्टम का कंट्रोल नगरपरिषद के अधिकारियों के पास होगा। गाड़ी कहां जा रही है किस मुहल्ले में सफाई कर्मचारी सफाई कर रहे है इसकी जानकारी मिलती रहेगी। वहीं सफाई कर्मचारी भी कभी भी फरलो नहीं मार सकेंगे।

-------------------------------------------

उच्चाधिकारियों को रिपोर्ट भेज दी है। जल्द ही इस पर काम शुरू कर दिया जाएगा। जीपीएस सिस्टम इसलिए लगाया जा रहा है ताकि शहर से मिलने वाली शिकायतों का निपटान हो। कुछ सफाई कर्मचारी गड़बड़ी करते है। जब गाड़ी पीछे होगी तो सफाई करने की जानकारी भी उन्हें मिलती रहेगी।

::जितेंद्र कुमार

ईओ नगरपरिषद फतेहाबाद।

Posted By: Jagran