संवाद सूत्र, जाखल : पिछले सप्ताह शुक्रवार को हुई बरसात के बाद पानी तो निकल गया, लेकिन अब तो अधिकारियों की नाकामी की तस्वीर हर जगह नजर आ रही है। जाखल शहर के सभी वार्ड और स्टेशन परिसर में जल जलभराव होने के कारण मिट्टी कटाव हो गया है। सबसे बुरा हाल तो अंडरपास पुल का है। यहां से पानी निकासी नहीं हुआ है। इसके अलावा जगह जगह मिट्टी धस गई। ऐसे में कोई भी बड़ा हादसा हो सकता है। ऐसा नहीं कि रेलवे अधिकारियों के संज्ञान में मामला नहीं, मामला संज्ञान में होने के बावजूद समस्या का समाधान नहीं हो रहा है।

शहर के विकास पर लग रहे करोड़ों रुपये के टेंडर से सभी व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने का दावा किया जाता है। लेकिन ऐसा कुछ नहीं है। पिछले दिनों ही सीवरेज लाइन डाली गई। लेकिन पानी निकासी के लिए कोई प्रयास तक नहीं हुए। जलभराव के कारण कहीं धंस ना जाए जाखल स्टेशन अंडरपास ब्रिज

रेलवे द्वारा करोड़ों रुपये की लागत से कोरोना काल से पहले ही अंडरपास का काम चलता आ रहा है, परंतु इसका निर्माण कार्य पूरा न होने के कारण यह भी जाखल जंक्शन के लिए एक मुसीबत का कारण भी बन सकता है। पिछले दिनों आई बरसात के कारण जगह जगह मट्टी धस गई है। वही मिट्टी व भारी घास फूस के साथ सारे आसपास का पानी इसमें चल आ जाने के कारण यहां की व्यवस्था बुरी तरह खराब हो चुकी है। अंडरपास का निर्माण कार्य पूरा न होने के कारण जहां कई गाव के लोगों को भी परेशानी आ रही है।

ये कहना है ठेकेदार का

जट की कमी के कारण निर्माण कार्य के देरी आ रही है। यदि समय अनुसार बजट मिलता है तो यह कार्य कब का पूरा हो जाता। मिट्टी धंसने का मामला संज्ञान में आया है इसे दुरुस्त कर दिया जाएगा।

वीरपाल, ठेकेदार जाखल जंक्शन। क्या बोले रेलवे अधिकारी

स्टेशन की सभी समस्याओं के बारे में दिल्ली उच्चाधिकारियों को अवगत करवाया जा रहा है। स्थानीय स्टेशन प्रशासन से भी जल्द ही इनके समाधान के भी प्रयास किए जाएंगे।

विरेंद्र कुमार, प्रशासक रेलवे स्टेशन जाखल।

Edited By: Jagran