संवाद सूत्र, कुलां

बीते दिन किसानों द्वारा विरोध प्रदर्शन करने के बाद गुरुवार को प्रशासनिक अमला हरकत में आया दिखाई दिया है। वरिष्ठ अधिकारियों के तत्वाधान में वीरवार को तीनों खरीद एजेंसियों द्वारा धान की खरीद की गई। एजेंसियों द्वारा करीब 35 हजार क्विटल धान खरीदी गई। इससे किसानों व आढ़तियों द्वारा राहत की सांस ली गई। विदित है कि धारसूल अनाजमंडी में करीब 70 हजार क्विंटल धान की आवक हो चुकी है। सरकारी धान खरीद करने का जिम्मा तीन एजेंसियों को सौंपा गया है। खरीद एजेंसियों द्वारा बुधवार तक कुल 10 हजार क्विंटल धान की खरीद की गई थी और खरीदी गई धान का उठान भी नहीं हो रहा था। आलम ये था कि किसानों को मंडी में फसल रखने के लिए जगह नहीं मिल रही थी। इससे परेशान किसानों ने बुधवार शाम को कुलां जाखल मार्ग पर जाम लगाकर आवागमन अवरुद्ध कर दिया था। इसकी सूचना मिलने पर टोहाना की एसडीएम चिनार चहल प्रदर्शनकारियों के बीच पहुंची थी और समस्या का यथाशीघ्र समाधान करने का आश्वासन देते हुए जाम खुलवाया था। किसानों की उक्त समस्या के निराकरण के लिए गुरुवार को प्रशासन द्वारा तीनों खरीद एजेंसियों को धान खरीद के लिए लगाया गया। यही नहीं, बल्कि पहले खरीदी गई धान का उठान भी करा दिया है। विदित है कि बुधवार को किसानों द्वारा किए गए रोष प्रदर्शन के बाद स्थानीय मंडी प्रशासन द्वारा जिला प्रशासन को इस समस्या बारे में अवगत कराया था। जिसके बाद प्रशासन द्वारा तीनों खरीद एजेंसियों को मंडी में धान खरीद करने के आदेश दिए थे।

Edited By: Jagran