जागरण संवाददाता, फतेहाबाद :

जिले को पूर्णरूप से नशामुक्त व कन्या भ्रूण हत्या जैसी सामाजिक बुराईयों को जड़ से खत्म करना है, जिसके लिए ग्राम पंचायतें, युवा क्लब, सामाजिक-धार्मिक संगठन, ओडीएफ टीम, प्रशासनिक अधिकारी व कर्मचारी, स्वयं सहायता समूह सहित सभी नागरिक आगे आएं। यह आह्वान उपायुक्त डा. जेके आभीर व पुलिस अधीक्षक दीपक सहारण ने संयुक्त रूप से सोमवार को जिला के गांव हड़ौली में नशामुक्ति जागरूकता शिविर को संबोधित करते हुए किया। इस अवसर पर विभिन्न विभागों के अधिकारीगण, दो दर्जन के लगभग ग्राम पंचायतें, स्कूली बच्चे सहित क्षेत्र के गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे। आभीर ने कहा कि जिला की सभी 257 ग्राम पंचायतें निसंकोच होकर सामाजिक बुराईयों को खत्म करने के लिए आगे आएं, इसके लिए गांव-गांव में टीमें गठित करे। नशीले पदार्थ बेचने वालों व कन्या भ्रूण हत्या करवाने वालों की पहचान कर इसकी सूची तुरंत प्रशासन व पुलिस विभाग को दें। सूचना देने वालों का नाम गोपनीय रखा जाएगा तथा प्रशासन की तरफ से हरसंभव मदद की जाएगी और बड़ी धनराशि देकर उन्हें सम्मानित भी किया जाएगा। पुलिस अधीक्षक दीपक सहारण ने कहा कि नशा काल है, विनाश है। युवा पीढ़ी इस जाल में फंसकर शारीरिक व मानसिक क्षमता को खत्म कर रही है। उन्होंने नारा देते हुए कहा कि टोली बनाए और नशे को भगाए। जो लोग काले कारनामे एवं नशे का धंधा करता है, वह सिर्फ पैसा कमाने के लिए ऐसा काम करता है। उन्होंने स्पष्ट कहा कि नशातस्करों व नशीले पदार्थ वितरित करने वालों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा। इस मौके पर स्कूली बच्चों व उच्चकोटी के कलाकारों द्वारा गीतों एवं लघु नाटिका के माध्यम से ग्रामीणों को नशा न करने के प्रति जागरूकत किया और उन्हें संकल्प दिलवाया कि वे अपने जीवन में कभी भी नशा नहीं करेंगे। इस अवसर पर डीडीपीओ अनुभव मेहता, विकर ¨सह हड़ौली, सरपंच गुलशन चौधरी, जट सभा हरियाणा के प्रतिनिधियों, विभिन्न गांवों के सरपंचों व प्रयास संस्था के संयोजक धर्मेन्द्र गोस्वामी आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran