संवाद सूत्र, रतिया :

शनिवार को अनाज मंडी रोड पर एक दुकानदार के पास यूरिया खाद आने के बावजूद दुकानदार द्वारा किसानों को यूरिया न आने की बात कहने पर किसानों ने हंगामा किया और पगड़ी संभाल जट्टा किसान संघर्ष समिति के ब्लॉक अध्यक्ष गुरप्यार बाड़ा ने उक्त मामले की शिकायत स्थानीय कृषि अधिकारी को की जिसके पश्चात खंड कृषि अधिकारी ने मौके पर पहुंच कर अपनी निगरानी में किसानों को यूरिया खाद बटंवाई। वहीं दोपहर बाद फतेहाबाद से कृषि विभाग के एसडीओ के नेतृत्व में एक टीम ने यूरिया खाद

के डिस्ट्रीब्यूटर की अनेक दुकानों पर छापामार कार्रवाई कर प्रकाश केमिकल्स के खिलाफ यूरिया खाद से संबंधित अनियमितताओं को लेकर अपनी रिपोर्ट उच्च अधिकारियों भेजने की बात कही। वहीं उक्त दुकानदार ने किसानों के आरोपों को निराधार बताया। शनिवार को शहर की कुछ दुकानों पर यूरिया खाद आई थी इसको लेकर शहर के किसान पाल सिंह और सुखदीप सिंह यूरिया लेने के लिए जब एक दुकान पर गए तो दुकानदार द्वारा उन्हें यह कहकर यूरिया खाद देने से मना कर दिया कि उसकी दुकान पर यूरिया खाद नहीं आई जिस पर

किसान भड़क उठे और उक्त मामले को लेकर एकत्रित हुए किसानों ने हंगामा किया। किसानों का कहना था कि उन्हें जानबूझकर यूरिया नहीं दिया जा रहा। मामले की सूचना मिलने पर पगड़ी संभाल जट्टा किसान संघर्ष समिति के ब्लॉक अध्यक्ष गुरप्यार सिंह बाड़ा और उनके अन्य किसान साथी मौके पर पहुंचे और

किसान नेता गुरप्यार सिंह ने उक्त मामले की शिकायत खंड कृषि अधिकारी को करते हुए इस बारे में मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि शनिवार सुबह यूरिया खाद आने की सूचना पर जब शहर के दो किसान मंडी रोड स्थित प्रकाश केमिकल्स की दुकान पर यूरिया लेने गए तो उक्त दुकानदार के पास यूरिया खाद

होने के बावजूद उक्त दुकानदार ने उक्त दोनों किसानों को यूरिया देने से मना कर दिया गया।

खंड कृषि अधिकारी ने उक्त दुकान पर पहुंचकर यूरिया को अपनी मौजूदगी में बटंवाया और खंड कृषि

अधिकारी ने पूरे मामले की जानकारी उच्च अधिकारियों को दी। वहीं दोपहर बाद

फतेहाबाद से कृषि विभाग के एसडीओ डा. भीम सिंह के नेतृत्व में एक टीम

ने शहर में यूरिया खाद के डिस्ट्रीब्यूटरों की अनेक दुकानों पर छापामार कार्रवाई की। इस बारे में जानकारी देते हुए एस.डी.ओ. भीम सिंह ने बताया कि प्रकाश केमिकल्स द्वारा किसानों को यूरिया खाद न देने की शिकायत मिली थी जिस पर खंड कृषि अधिकारी ने प्रकाश केमिकल्स की दुकान पर पहुंच कर

देखा तो दुकानदार के पास पहुंची 500 बैग में से 470 बैग यूरिया स्टॉक था लेकिन उन्होंने बाहर स्टॉक बोर्ड पर स्टॉक नहीं लिखा हुआ था जिस पर उक्त कृषि अधिकारी ने अपनी मौजूदगी में यूरिया खाद को किसानों को बंटवाया था तथा अब उन्होंने उक्त दुकान का निरीक्षण कर उक्त पूरे मामले की रिपोर्ट

तैयार कर ली है जिसे उच्च अधिकारियों को भेजा जाएगा। वहीं जब इस बारे में

प्रकाश केमिकल्स के मालिक प्रदीप कुमार से बात की तो उन्होंने आरोपों को

निराधार बताया और कहा कि जब सुबह उनके पास किसान आए थे तब तक उनके पास यूरिया नहीं आई थी जिसके यूरिया खाद आने पर कृषि अधिकारी की मौजूदगी में यूरिया खाद को बांटा गया है।

Edited By: Jagran