संवाद सूत्र, रतिया :

अनाजमंडी में बढ़ती धान की चोरी की घटना के बाद झार की सफाई का कार्य करने वाली महिलाओं को मंडी में न घुसने के आदेश के बाद महिलाओं ने अनाज मंडी व फतेहाबाद रोड पर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। महिलाओं ने कहा कि चोरी की घटनाओं से उनका कोई लेना-देना नहीं उनके परिवार की रोजी-रोटी इसी कार्य से चलती है। इसलिए उन्हें मंडी में कार्य करने की अनुमति प्रदान की जाए। जिसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची और समझाकर शांत किया।

पिछले कुछ समय से अनाज मंडी में धान चोरी की बढ़ती घटनाओं को लेकर मजदूर यूनियन, व्यापारियों व किसानों में रोष था। वही सोमवार को धान चोरी होने के आरोप धान की झार की सफाई करने वाली एक महिला पर लगा था। जिसके बाद धान का झार उठाने वाले प्रतिनिधियों और मजदूर यूनियन के प्रतिनिधियों के बीच निर्णय हुआ था कि अनाज मंडी में कोई भी महिला धान की झार उठाने के लिए नहीं घुसेंगी। जिसके पश्चात भूना क्षेत्र के नहला गांव की एक महिला ने थाने में एक ठेकेदार के खिलाफ शिकायत देकर आरोप लगाया था कि उसने धान उठाने के नाम पर उसके साथ मारपीट की है। मंगलवार को दर्जनों महिलाएं जिसमें मितो, मेलो, महेंद्रो, कर्मजीत, बंसो, पिकी, गुरदीप शेरगढ़ ढाणी आदि ने अनाज मंडी में मार्केट कमेटी व अन्य संबंधित लोगों के खिलाफ नारेबाजी की। डीएसपी सुभाष बिश्नोई और कार्यवाहक शहर थाना एसएचओ टेकचंद के समक्ष इन महिलाओं ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि मंडी में धान चोरी होने की घटनाओं से उनका कोई लेना देना नहीं है। सोमवार को मंडी में झार की सफाई करने वाली महिलाओं को न घुसने देने की जो घोषणा की गई है। पुलिस अधिकारियों ने उक्त महिलाओं को शांत करते हुए आश्वासन दिया कि व मार्केट कमेटी सचिव व अन्य पक्षों से मिलकर इस बात पर सहमति बनाने का प्रयास करेंगे।

Edited By: Jagran