संवाद सहयोगी, टोहाना: स्वास्थ्य निदेशालय के आदेशों पर टोहाना के नागरिक अस्पताल की अंदर से बेशक कायापलट हो गई हो लेकिन अस्पताल के कैंपस के आगे पानी निकासी के प्रबंध ना किये जाने से रोगियों व उनके परिजनों को पानी में से होकर गुजरना पड़ता है।

लगभग 6 माह पहले हरियाणा स्वास्थ्य निदेशालय ने प्रदेश के तमाम सीएमओ की बैठक लेकर सभी सरकारी अस्पतालों की कायापलट कर उसमें आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए दिशा निर्देश दिए गए थे। टोहाना के एकमात्र नागरिक अस्पताल की कायापलट के लिए 1.12 करोड़ रुपये की राशि मंजूर हुई थी। स्वास्थ्य विभाग की नई योजना के अनुसार नागरिक अस्पताल में आने व जाने के लिए दो मुख्य द्वार बनाये जाना व उसके मध्य में सुंदर रेलिग लगाने की योजना शामिल थी, जोकि अभी अधूरी है। जबकि अस्पताल परिसर में हर्बल पार्क का निर्माण, लैब का आधुनिकीकरण, लेबर रूम, प्राईवेट रूम व जनरल वार्डो की हालत में सुधार सहित कई कार्य पूर्ण हो चुके हैं।

एक करोड़ रुपये की राशि खर्च करने के बावजूद नागरिक अस्पताल परिसर में एंट्री द्वार के बाहर निकासी व्यवस्था ना करने से बरसाती पानी जमा रहने से रोगियों व उनके परिजनों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यहां तक कि द्वार तक किये गये मुख्य सड़क निर्माण के बाद उस पर मिट्टी की तह जमने के कारण बरसात के समय यहां फिसलन हो जाती है। जिससे हादसा होने का भय बना रहता है। वहीं रोगियों व उनके परिजनों के साथ-साथ स्टाफ सदस्यों तथा नर्सिंग स्कूल की छात्राओं को भी यहां से गुजरते हुए फिसलने का भय बना रहता है।

----------------

पानी निकासी का नहीं प्रबंध

स्वास्थ्य विभाग के निर्देशानुसार नागरिक अस्पताल के अंदर का कायापलट व सौंदर्यकरण तो नजर आ रहा है लेकिन कैंपस के मुख्य द्वार पर निकासी के प्रबंध नहीं किये जाने से बरसाती पानी कई-कई दिन खड़ा रहने से आमजन को भी परेशानी उठानी पड़ रही है। वहीं जब कीचड़ से लथपथ पांव कैंपस के अंदर जाते है तो वहां की सफाई पर भी बुरा असर पड़ रहा है। विभाग द्वारा मुख्य द्वार के बाहर नई टाइलें लगाने व आसपास कंक्रीट फर्श बनाने के बावजूद बरसाती पानी खड़ा रहना भी लोक निर्माण विभाग की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगा रहा है।

----------------------- लोक निर्माण द्वारा अस्पताल के अंदर करवाये गये निर्माण के बाद अस्पताल की अंदर से अवश्य ही कायापलट हुई है। जिससे अस्पताल का सुंदरीकरण भी हुआ है। जबकि कैंपस के मुख्य द्वार के पास सड़क निर्माण के बावजूद निकासी व्यवस्था ठीक ना होने के कारण बरसाती पानी जमा हो जाता है, जिससे अस्पताल में आने वालों को परेशानी उठानी पड़ रही है। वहीं अस्पताल परिसर में सफाई के प्रबंधों पर असर पड़ रहा है। उन्होंने इसके लिए लोक निर्माण विभाग को मौखिक भी कहा है। वह इस समस्या के समाधान को लेकर आज ही लिखित में पत्र भेज रहे है ताकि समय रहते इसका समाधान किया जा सके।

डा. एचएस सांगु,

एसएमओ, नागरिक अस्पताल, फतेहाबाद।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस