जागरण संवाददाता, फरीदाबाद : वायु प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट की सख्ती का असर दिखाई दे रहा है। वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग के आदेश पर गठित किए गए फ्लाइंग स्कवाड की दो टीमों ने शनिवार को कई जगह निरीक्षण किया। एक टीम सौभाग्य दीक्षित और दूसरी प्रभात रंजन के नेतृत्व में यहां दिनभर रही। इस दौरान कई औद्योगिक क्षेत्रों में देखा कि नियमों के विरुद्ध उद्योग तो नहीं चल रहे। साथ ही कई जगह कंस्ट्रक्शन साइटों का भी निरीक्षण किया। दावा है कि निरीक्षण वाली जगह सबकुछ ठीक-ठाक मिला। केवल बाईपास पर सेक्टर-8 में कचरे के ढेर में आग जलती हुई मिली। हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की टीम ने तुरंत नगर निगम को नोटिस भेज दिया।

बता दें कुछ दिन पहले भी आयोग और केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की टीम ने शहर का निरीक्षण किया था। इससे अगले दिन प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की टीम ने सख्त रुख अपनाते हुए तीन विभागों पर 70 लाख रुपये जुर्माने का नोटिस भेज दिया था। बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी दिनेश कुमार ने बताया कि टीम के साथ दो एसडीओ अभिजीत और रणदीप हैं। उन्होंने बताया कि शनिवार और रविवार को केवल पीएनजी-सीएनजी वाले उद्योग ही चलेंगे। इसके अलावा सप्ताह में बाकी पांच दिन आठ घंटे उद्योग चलेंगे। पीएनजी-सीएनजी वाले उद्योगों का संचालन की कोई समय सीमा नहीं है। पानी का छिड़काव जारी

सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद नगर निगम सहित अन्य विभाग के अधिकारी भी अलर्ट दिखाई दे रहे हैं। शनिवार को राष्ट्रीय राजमार्ग सहित बाईपास व अन्य सड़कों पर पानी का छिड़काव होता हुआ दिखाई दिया। पानी का छिड़काव होने से मिट्टी उड़ती नहीं है। इससे प्रदूषण का स्तर अधिक नहीं बढ़ता। बढ़ गया प्रदूषण का स्तर

शुक्रवार को आंशिक राहत के बाद शनिवार को प्रदूषण का स्तर पीएम 2.5 फिर बढ़ गया। शुक्रवार को 292 स्तर था जबकि शनिवार को यह बढ़कर 356 पहुंच गया।

Edited By: Jagran