फरीदाबाद [हरेंद्र नागर]। मकड़ी या सांप को दिखते ही घर से बाहर फेंक दिया जाता है। मगर प्रदूषण से लड़ने के लिए लोग मकड़ी और सांप को ना केवल घर में ला रहे हैं, बल्कि अच्छे से देखभाल भी कर रहे हैं। दरअसल, स्पाइडर (मकड़ी) व स्नेक (सांप) खास किस्म के पौधे हैं, जिनके बारे में प्रचलित है कि ये हवा को शुद्ध करते हैं। ये पौधे सांप और मकड़ी की तरह दिखते हैं, शायद तभी इन्हें ये नाम मिले।

प्रदूषण के कारण बढ़ रही डिमांड

दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण के बढ़ते स्तर ने इन पौधों की मांग भी बढ़ा दी है। घर के अंदर शुद्ध हवा प्राप्त करने के उद्देश्य से लोग इन पौधों को गमले में लगाकर ड्राइंग रूम, बेडरूम या किचन में रख रहे हैं। ये पौधे ज्यादा बड़े नहीं होते, इन्हें अधिक देखभाल की भी जरूरत नहीं होती। इन खूबियों ने लोगों को इन पौधों का मुरीद बना दिया है।

नर्सरी में पहुंच रहे लोग

नर्सरियों में लोग स्नेक व स्पाइडर के पौधों को खोजते नजर आ रहे हैं। इन पौधों के हवा शुद्ध करने के गुणों से विशेषज्ञ भी इत्तेफाक रखते हैं। क्राउन इंटीरियर सहित शहर के कुछ मॉल्स में भी ये पौधे बिक रहे हैं। ग्रीन फील्ड कॉलोनी में नर्सरी चलाने वाले नरेश ने बताया कि पिछले साल भी जब वायु प्रदूषण का स्तर बढ़ा था, इन पौधों की मांग काफी बढ़ गई थी। इस बार भी इनकी खूब मांग हो रही है। नरेश का कहना है कि इन्हें ऑक्सीजन प्लांट भी कहा जाता है। ये अन्य पौधों के मुकाबले अधिक मात्रा में ऑक्सीजन उत्सर्जित करते हैं।

धूल के कण हटाने में हैं सहायक

वहीं धूल के कणों को हटाने में भी सहायक हैं। सामान्य दिनों में एक पौधे की कीमत 100 से 150 रुपये है, मगर इन दिनों ये पौधे 200 से 350 रुपये तक बिक रहे हैं। इनके अलावा एरिका व मनी प्लांट को भी वायु शुद्ध करने के गुणों से भरपूर माना जाता है। लोग इन पौधों की भी लोग खूब खरीदारी कर रहे हैं। हवा शुद्ध करने के गुण हर पौधे में होते हैं, मगर इन पौधों में यह गुण थोड़ा अधिक होता है। हर पौधे को घर के अंदर नहीं रखा जा सकता। हवा शुद्ध करने के साथ ही रखे हुए सुंदर दिखते हैं। वास्तु के अनुसार भी इन्हें अच्छा माना जाता है। ऐसे में इन्हें घर के अंदर रखने में कोई हानि नहीं है, केवल फायदा है।

जोगीराम, कार्यकारी अभियंता, बागवानी, हुडा

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस