जागरण संवाददाता, फरीदाबाद : एक महिला सहित तीन लोगों ने फर्जी एलपीजी (लिक्विड पेट्रोलियम गैस) कंपनी बनाकर उसकी डीलरशिप देने के नाम पर जवाहर कॉलोनी निवासी कारोबारी से 28 लाख रुपये ऐंठ लिए गए। धोखाधड़ी का शिकार हुए कारोबारी मनोज कुमार का दावा है कि पुलिस आयुक्त, डीसीपी एनआइटी वसारन थाना पुलिस को शिकायत देने के बाद भी मुकदमा दर्ज नहीं हुआ तो उन्हें अदालत की शरण लेनी पड़ी। अब अदालत के आदेश पर सारन थाने में आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है।

मनोज कुमार के अनुसार विनोद कुमार, देवेश मिश्रा और ज्योति मिश्रा ने खुद को एक एलपीजी कंपनी का निदेशक बताते हुए इसकी डीलरशिप के लिए आवेदन मांगे थे। मनोज कुमार ने डीलरशिप की इच्छा जताते हुए इन लोगों से संपर्क किया। आरोपितों ने बातों से मनोज को पूरी तरह विश्वास में ले लिया। उनसे सिक्योरिटी, पंजीकरण, कनेक्शन सहित कई अन्य बहाने से करीब 28 लाख रुपये ले लिए। आरोपितों की बातों पर विश्वास करते हुए मनोज ने गौतमबुद्ध नगर यूपी में गैस सिलेंडरों के लिए एक गोदाम भी तैयार कराया, जिस पर करीब 12 लाख रुपये खर्च हुए। उन्होंने 340 गैस सिलेंडर भी खरीदे। उन्होंने गैस सिलेंडर भरवाने के लिए कंपनी के बताए पते पर भेजे, मगर वे भरकर वापस नहीं आए। मनोज को संदेह हुआ तो उन्होंने अपने स्तर पर पता किया, तब उन्हें जानकारी मिली कि आरोपितों ने फर्जी कंपनी बनाई हुई है। वे पहले भी कई लोगों के साथ ठगी कर चुके हैं। अब पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Posted By: Jagran