अनिल बेताब, फरीदाबाद

प्रदेश के निजी ब्लड बैंक जरूरतमंद को ब्लड देते समय शुल्क लेने के मामले में अब मनमानी नहीं कर पाएंगे। भारतीय रेडक्रास सोसायटी इस मामले में सरकार के स्तर पर बातचीत करके अब शुल्क निर्धारित करेगी। प्रयास किया जाएगा कि सरकारी व निजी ब्लड बैंकों का शुल्क समान हो। भारतीय रेडक्रास सोसायटी के महासचिव आरके जैन ने शिकायत आने पर हरियाणा रेडक्रास सोसायटी को इस मामले में आश्वस्त किया है।

बता दें कि इस समय निजी और सरकारी ब्लड बैंक में टेस्टिंग शुल्क अलग-अलग हैं। सरकारी ब्लड बैंक में अगर कोई जरूरतमंद ब्लड लेने आता है और मरीज सरकारी अस्पताल में दाखिल है तो ब्लड देते समय कोई टेस्टिंग शुल्क नहीं लिया जाता है। मरीज निजी अस्पताल से इलाज करा रहा है, तो सरकारी ब्लड बैंक में ब्लड का टेस्टिंग शुल्क 1050 रुपये है। जरूरत पड़ने पर अगर निजी ब्लड बैंक से ब्लड लेने जाते हैं तो वहां 1500 से 2500 रुपये वसूले जाते हैं। निजी ब्लड बैंक की मनमानी की शिकायत समाजसेवी सीए तरुण गुप्ता ने भारतीय रेडक्रास सोसायटी के महासचिव आरके जैन से की है। हरियाणा रेडक्रास सोसायटी ने भी निजी ब्लड बैंक की मनमानी से भारतीय रेडक्रास सोसायटी को अवगत करा दिया है। निजी ब्लड बैंक की टेस्टिंग चार्ज के मामले में शिकायतें आई हैं। निजी ब्लड बैंक की मनमानी पर अंकुश लगाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

-डीआर शर्मा, रेडक्रास सोसायटी के महासचिव

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran