जेएनएन, चरखी दादरी/भिवानी। यह युवक बड़ा शातिर निकला। वह खुद को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का नजदीकी बताता था और फिर नेताओं व बेरोजगार युवाओं को अपने जाल में फंसाता था। भिवानी में तो उसने दिव्यांग बेरोजगार से दो लाख रुपये ठग भी लिए, लेकिन जब वह भाजपा दादरी के जिला अध्यक्ष रामकिशन शर्मा को ठगने का प्रयास करने लगा तो खुद ही जाल में फंस गया।  

उसनेे कहा कि भाजपा दादरी के जिला अध्यक्ष रामकिशन शर्मा को कहा कि वह उन्हें विधानसभा चुनाव में पार्टी का टिकट दिलाएगा। बहरहाल, पुलिस ने आरोपित अभिषेक त्रिपाठी को भिवानी से गिरफ्तार कर लिया है। उसका दूसरा साथी संदीप राणा भाग निकलने में कामयाब रहा। अभिषेक बिहार के सिवान जिले का रहने वाला है। वह खुद को अमित शाह की टीम का सदस्य व अपने साथी युवक को शाह का पीए बताता था। दादरी पुलिस ने अभिषेक को दो दिन के रिमांड पर लिया है।

रामकिशन शर्मा से अभिषेक की मुलाकात लोकसभा चुनाव 2019 से पहले अमित शाह की दादरी रैली के दौरान हुई थी। तब उसने शर्मा को दादरी विधानसभा के चुनाव में टिकट दिलाने का प्रलोभन दिया था। कुछ दिन पूर्व अभिषेक त्रिपाठी ने शर्मा की मुलाकात एक व्यक्ति से कराई और उसका नाम राणा बताते हुए कहा कि वह (राणा) अमित शाह का पीए है। दोनों ने विधानसभा टिकट दिलाने के लिए दस लाख रुपये मांगे। इसके बाद 17 सितंबर को दिल्ली के एक होटल में हुई मुलाकात के दौरान दोनों ने बैंक अकाउंट नंबर देते हुए खाते में पैसे डालने को कहा। शर्मा को उनकी बातों से मामला संदिग्ध लगा तो उन्होंने अपने सूत्रों से पता किया। उन्हें जानकारी मिली कि दोनों झूठ बोल रहे हैं। इसके बाद उन्होंने पुलिस को शिकायत दी।

कई नेताओं से ठगी का प्रयास करने वाला भी गिरफ्त में

हिसार के हांसी शहर के भाजपा नेता राजेश ठकराल से भी गौरव नाम का एक व्यक्ति भाजपा का टिकट दिलाने का झांसा देकर ठगी का प्रयास कर चुका है। ठकराल ने भी पुलिस को उसकी सूचना दे दी और हांसी पुलिस ने उसे चंडीगढ़ से गिरफ्तार कर लिया था। दसवीं पास गौरव अमृतसर का रहने वाला है और प्रदेश के दो नेताओं से 35 लाख रुपये ठग चुका है। उसने खुद को चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की टीम का सदस्य बताया था। गौरव पर राजस्थान में भी टिकट दिलाने का झांसा देकर करोड़ों रुपये ठग लेने के केस दर्ज हैं।

गौरव ने पुलिस को बताया कि वह पुंडरी के पूर्व कांग्रेसी विधायक तेजबीर को टिकट दिलाने का झांसा देकर 25 लाख रुपये और झज्जर को-ऑपरेटिव बैंक के पूर्व चेयरमैन एडवोकेट अजय कुमार अहलावत से 10 लाख रुपये ठग चुका है। वह फेसबुक से नेताओं के नंबर लेकर उन्हें फोन करता था। दिलचस्प यह है कि प्रशांत किशोर अब भाजपा या कांग्रेस के साथ नहीं बल्कि ममता बनर्जी के साथ हैं।

अभिषेक त्रिपाठी ने दिव्यांग को डी ग्रुप में नौकरी दिलाने के नाम पर भी की ठगी

अभिषेक त्रिपाठी ने भिवानी के एक दिव्यांग बेरोजगार को डी ग्रुप में लगवाने के लिए दो लाख रुपये की ठगी की थी। यह खुलासा उसने पुलिस पूछताछ में खुद किया है। औद्योगिक क्षेत्र थाना पुलिस ने दिव्यांग के पिता की शिकायत पर आरोपित के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है।

शांति नगर निवासी धर्मवीर ने पुलिस को दी गई शिकायत में बताया कि उसका लड़का योगेंद्र दिव्यांग है। उसने बताया कि उसके बेटे ने ग्रुप डी के पेपर दिए थे। बैंक कालोनी में रहने वाले अभिषेक त्रिपाठी से उसकी मुलाकात हुई। उसने कहा कि उसकी भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से सीधी पहचान है। इसके साथ ही कई बड़े केंद्रीय नेताओं से भी पहचान है। यह बात कहकर उसने उसके बेटे योगेेंद्र को डी ग्रुप में नौकरी लगवाने का झांसा दिया। उसने कहा कि कई नेताओं को टिकट दिलाई है और अनेक युवाओं को नौकरी लगवा दिया है। उसने योगेंद्र को नौकरी लगवाने के नाम पर चार लाख रुपये की मांग की।

उसने कहा कि नौकरी लगवाने के लिए उसने रुपये मांगे तो उसके दबाव में आकर उसके बताए हुए व्यक्ति के बैंक खाते में दो लाख रुपये ट्रांसफर कर दिए। उसने उसके बेटे को नौकरी नहीं लगवाया और रुपये वापस करने के नाम पर टालमटोल करता रहा। दादरी पुलिस की पकड़ में आने के बाद अब औद्योगिक क्षेत्र थाना पुलिस ने बेरोजगार के पिता धर्मवीर की शिकायत पर अभिषेक त्रिपाठी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस