जागरण संवाददाता, भिवानी :

चिड़ियाघर के वन्य प्राणियों की आखिर सुध ली गई है। वन्य प्राणी विभाग ने इनको ठंड से बचाने के लिए जरूरी सुविधाएं यहां पर सुलभ कराई हैं। चिड़ियाघर मे तेंदुआ को ठंड से बचाव के लिए हीटर लगाया गया है। हिरणों के बाड़े में फूस बिछाया गया है ताकि वे ठंडी जमीन की बजाय उस पर बैठ सकें। इसके अलावा पक्षियों के लिए बनाए पिजरों के टूटे नेट की जगह अब एग्रोनेट लगाया गया है। एग्रोनेट से पक्षियों को ठंड से बचाया जाएगा

भिवानी के लघु चिड़ियाघर में चांदी तीतर, काकटेल, लव बर्ड, जावा गौरैया, चहचहाने वाला छोटा पक्षी, बार्न उल्लू, लाल मुर्गी आदि के लिए एग्रोनेट लगाए गए हैं। इनके लिए बनाए गए नेट खराब हो गए थे। इनको अब नया लगाया गया है। नए नेट लगने के बाद कड़ाके ठंड से बचाव हो सकेगा। शनिवार को सूर्य देव चमके तो मगरमछ पानी से बाहर निकले और धूप सेकने लगे। ठंड को देखते हुए हीटर और एग्रो नेट लगाए गए हैं

अब अचानक ठंड बढ़ गई थी इसलिए चिड़ियाघर के वन्य प्राणियों को ठंड से बचाने के लिए हीटर और एग्रोनेट आदि लगाए गए हैं। यहां पक्षी हों चाहे दूसरे वन्य प्राणी उनके लिए सभी जरूरी सुविधाएं सुलभ कराई गई है।

पवन ग्रोवर, डीएफओ

वन्य प्राणी विभाग।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस