जागरण संवाददाता, भिवानी :

सर्वे और फिर सर्वे। पांच साल से ज्यादा का अरसा बीत गया। स्वास्थ्य विभाग की टीम प्रेमनगर, कभी शिक्षा बोर्ड तो कभी चौ. बंसीलाल नागरिक अस्पताल के साथ लगती जगह का सर्वे करने के लिए कई बार भिवानी आ चुकी। कोई राजनीतिक पेंच आड़े आ रहा है या कुछ और समझ से परे है। सरकार काम करना चाहती है या इस योजना में भी इसे यूं ही लटकाना चाहती है। मेडिकल कालेज निर्माण को लटकाते जाना तो सरकार की मंशा पर सवाल उठा रहा है। इसे अधिकारी लटका रहे हैं या सरकार ध्यान नहीं दे रही क्या कहा जा सकता है। आजकल शहरवासियों की जुबान पर मेडिकल कालेज निर्माण अब तक नहीं हो पाना चर्चा बना हुआ है।

रविवार को छुट्टी के दिन बाजार में गपशप कर रहे लोगों के बीच भी यह चर्चा सुनने को मिली। बात पुराना बस अड्डा के समीप की है। कुछ लोग धूप में बैठे गपशप कर रहे थे। सरकार के कार्यों को लेकर भी चर्चा चल निकली। इस बीच एक अधेड़ बोले बहोत काम किए होंगे भिवानी का तो एक मेडिकल कालेज नहीं बनाया जा रहा। पांच साल से ज्यादा का समय बीत गया। सर्वे पर सर्वे हो रहे हैं। आज तक ये सर्वे पूरे नहीं हो रहे। ऐसे में कब तक मेडिकल कालेज बनेगा समझ से परे है। हमें तो लगता है सरकार के ये पांच साल भी यूं ही न गुजर जाएं। अब तक तो मेडिकल कालेज बन जाना चाहिए था। इसी बीच वहां मौजूद युवा बोल पड़ा बात ठीक कह रहे हो अंकल जी, सरकार मन से चाहे तो इतना लंबा समय लगने का मतलब ही नहीं हो सकता। भिवानी के लोग अब तक मेडिकल कालेज नहीं बनने से मायूस हैं। बीच में एक अन्य बोले चिता ना करो सरकार ने वादा कर रखा है और भिवानी में मेडिकल कालेज जरूर बनेगा और जल्द बनेगा। उसे बीच में रोकते हुए एक अन्य युवा बोले हम भी तो यही चाह रहे हैं कि सरकार जल्द से जल्द भिवानी में मेडिकल कालेज बनाए लेकिन इंतजार की भी तो हद होती है। जब इंतजार ज्यादा लंबा हो जाता है मंशा में खोट नजर आने लगता है। बातचीत चल रही रही थी दो बुजुर्ग बोले जै जनता की चिता नहीं की गई तो आण आलै टैम में जनता उनकी चिता कर लेगी। फेर बी हमनै भरोसा सै भिवानी म्हैं मेडिकल कालेज जल्द बनेगा। --सुरेश मेहरा--

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस