जागरण संवाददाता, चरखी दादरी : कंप्यूटर आपरेटरों द्वारा नियमित करने, हटाए गए कर्मचारियों को बहाल करने, समान काम समान वेतन की मांगों को लेकर सोमवार से की गई अनिश्चितकालीन हड़ताल दूसरे दिन भी जारी रही। आपरेटरों के हड़ताल पर जाने से मंगलवार को भी लघु सचिवालय में जमीन की फर्द, जमाबंदी, लाइसेंस, वाहन रजिस्ट्रेशन व अन्य प्रमाण-पत्रों से संबंधित कार्य प्रभावित रहे। हड़ताल के चलते आपरेटरों के कैबिन पूरी तरह से खाली नजर आए। जिले के विभिन्न गांवों से आने वाले लोगों को बिना अपना काम हुए बैरंग ही लौटना पड़ा। जिसके कारण लोगों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा हैं। हड़ताल के चलते सरकार द्वारा की जा रही सरसों की खरीद के लिए कागजात बनवाने में किसानों को भी बहुत अधिक दिक्कतें आ रही हैं।

----------

नहीं मिल रही फर्द

लघु सचिवालय में गांव फतेहगढ़ से आए किसान ओमप्रकाश ने बताया कि सरसों की फसल बेचने के लिए उसे जमीन की फर्द की आवश्यकता हैं। लेकिन कंप्यूटर आपरेटर न होने के कारण उसे फर्द नहीं मिल पा रही हैं।

--------

बनवाना था प्रमाण-पत्र

दादरी निवासी निर्मला देवी ने बताया कि वह रिहायशी प्रमाण-पत्र बनवाने के लिए लघु सचिवालय में आई थी। यहां आकर उसे हड़ताल का पता चला। जिससे उसे फिर कभी आकर रिहायशी प्रमाण-पत्र बनवाना पड़ेगा। जिसके कारण उसे काफी परेशानी उठानी पडेगी।

-------

कल बेचनी हैं सरसों

गांव महराणा निवासी मनोज कुमार ने बताया कि शेड्यूल के अनुसार उनके गांव की सरसों की खरीद 19 अप्रैल को होनी हैं। सरसों बेचने के लिए उन्हें जमीन की फर्द की आवश्यकता हैं। लेकिन आपरेटरों की हड़ताल होने के कारण उन्हें फर्द नहीं मिल पा रही हैं। जिससे उनके सामने एक नया संकट आ गया हैं।

---------

नहीं मिली जमाबंदी नकल

गांव मानकावास से आए जमीदार सुमेर ¨सह ने बताया कि उसे जमीन की जमाबंदी नकल निकलवानी थी। आपरेटरों की हड़ताल के कारण उसे दोबारा से आना पड़ेगा। जिससे उसे समय के साथ आर्थिक नुकसान भी हो रहा हैं।

--------

सरसों बिक्री में परेशानी

गांव भागवी निवासी ओम कुमार ने बताया कि उसे सरसों बेचने के लिए जमीन की फर्द की जरूरत हैं। कंप्यूटर आपरेटर न होने की वजह से फर्द नहीं मिल पा रही हैं। ऐसे में उसे सरसों बिक्री में काफी परेशानियां आएंगी।

--------

ये हैं मुख्य मांगें

अनिश्चितकालीन राज्यव्यापी हड़ताल पर गए हरियाणा कंप्यूटर प्रोफेशनल यूनियन के सदस्यों ने बताया कि उनकी मुख्य मांगों में सभी कंप्यूटर प्रोफेशनल्स को नियमित किए जाने, नियमित होने तक समान काम समान वेतन, डीआइटीएस को राजस्व विभाग के अधीन करते हुए पद सृजित करने, विभागीय हेड से वेतनमान दिया जाने, हटाए गए कंप्यूटर प्रोफेशनल को तुरंत प्रभाव से बहाल किए जाने, आऊटसोर्सिंग को समाप्त करने, हारट्रोन के माध्यम से विभिन्न विभागों में कार्यरत कंप्यूटर प्रोफेशनल्स को वरिष्ठता का लाभ देने, डीआइटीएस में आउटसोर्सिंग से लगे सभी कंप्यूटर प्रोफेशनल्स की आउटसोर्सिंग समाप्त करते हुए विभाग में शामिल किया जाना तथा जूनियर प्रोग्रामर को सहायक के समान मानकर सृजित पदों पर समान वेतनमान दिया जाना शामिल हैं।

By Jagran