जागरण संवाददाता, चरखी दादरी : एक दिन बाद देश के विभिन्न शहरों में स्वच्छता सर्वेक्षण की शुरूआत होने वाली है। इस स्वच्छता सर्वेक्षण में शहर में साफ-सफाई के अलावा जनसुविधाओं पर भी विशेष फोकस रहेगा। जनसुविधाओं के लिए सर्वेक्षण में अलग से अंकों का भी प्रावधान रखा गया है। लेकिन दादरी में जनसुविधा को ध्यान में रखते हुए बनाए गए सार्वजनिक शौचालय रखरखाव व सुविधाओं के अभाव में शहर को रैं¨कग में पीछे धकेल सकते है।

शहर में विभिन्न स्थानों पर शौचालयों का निर्माण तो दादरी नगर परिषद द्वारा पहले ही करवा दिया गया था। लेकिन समय पर रखरखाव न होने के कारण शौचालय काफी दयनीय स्थिति में है। कुछ सार्वजनिक शौचालयों का हाल तो ऐसा है कि लोग उनमें जाने से भी दूर भागते है। ऐसी ही हालत दादरी के तिकोना पार्क के नजदीक पुल के नीचे बने सार्वजनिक शौचालय की है। यहां पर पुरूष व महिलाओं के लिए अलग-अलग शौचालय बनाए गए है। हैरानी की बात यह है कि शौचालय में पानी के लिए कोई व्यवस्था ही नहीं की गई। इसके अलावा शौचालय से सीवरेज में किए गए कनेक्शन का पाइप टूटने से दूषित पानी हमेशा आसपास ही फैला रहता है। जिस कारण माहौल हमेशा दुर्गधमय रहता है। समय पर सफाई न होने के कारण लोग इस शौचालय का प्रयोग करने से भी गुरेज करने लगे है। नहीं है पानी का कनेक्शन : कैलाश

तिकोना पार्क के नजदीक दुकानदार कैलाश जांगड़ा ने बताया कि कुछ वर्ष पूर्व दादरी नगर परिषद द्वारा पुल के नीचे शौचालय का निर्माण करवाया था। शौचालय निर्माण के बाद उन्हें सुविधाएं मिलने की उम्मीद तो जगी थी। लेकिन अभी तक इस शौचालय में पानी का ना तो कोई कनेक्शन है और ना ही पानी के लिए कोई वैकल्पिक व्यवस्था की गई है। जिसके कारण काफी गंदगी यहां पर फैली रहती है। आती है दुर्गध : रामअवतार

दुकानदार रामअवतार ने बताया कि यहां से हर रोज सैंकड़ों की संख्या में लोग गुजरते है। शौचालय के सीवरेज कनेक्शन का पाइप टूटा हुआ है। जिसके कारण दूषित पानी सीवर में जाने के बजाय यहीं पर फैला रहता है। जिस कारण यहां से हर समय काफी दुर्गंध आती रहती है। ऐसे में यहां से गुजरने वाले लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। कभी-कभार होती सफाई : अनिल

स्थानीय दुकानदार अनिल कुमार ने बताया कि इस शौचालय की नियमित रूप से सफाई नहीं की जाती। करीब दस दिनों में सफाई कर्मचारी आकर शौचालय में सफाई करता है। लेकिन पानी कनेक्शन न होने के कारण शौचालय की सफाई भी अच्छे तरीके से नहीं हो पाती। महिलाओं को होती परेशानी : संदीप

तिकोना पार्क के दुकानदार संदीप कुमार का कहना है कि पुल के नीचे महिला व पुरूषों के लिए अलग से शौचालय तो बना दिए गए। लेकिन पानी व सीवरेज कनेक्शन की उचित व्यवस्था न होने के कारण खासकर महिलाओं को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। लोगों को मजबूरन मुंह पर कपड़ा रखकर शौचालय का प्रयोग करना पड़ता है। हर रोज गुजरते हजारों विद्यार्थी

उल्लेखनीय है कि कालेज रोड पर एक दर्जन से अधिक शिक्षण संस्थाएं है। जिसके कारण हर रोज हजारों की संख्या में विद्यार्थी तिकोना पार्क के नजदीक से गुजरते है। लेकिन शौचालय के बाहर फैले गंदे पानी के कारण आसपास का माहौल भी काफी दुर्गधमय बना रहता है। ऐसे में यहां से गुजरने वाले विद्यार्थियों को भी भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। दिक्कतों का करना पड़ता है सामना

दादरी की शंकर कालोनी, गांधी नगर, प्रेम नगर के अलावा दर्जनों गांवों का रास्ता भी तिकोना पार्क के समीप से ही निकलता है। इन कालोनियों व गांवों में हजारों की संख्या में लोग रहते है। इन लोगों को अपने कार्यो के लिए दादरी शहर में आने के लिए इसी रास्ते का प्रयोग मुख्य रूप से किया जाता है। लेकिन शौचालय की हालत खराब होने के कारण इन लोगों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप