फोटो : 1 सीडीआर 7 जेपीजी में है।

जागरण संवाददाता, चरखी दादरी : भाकियू प्रदेश अध्यक्ष जगबीर घसौला व अन्य पदाधिकारियों ने सोमवार को गांव घिकाड़ा में ग्रामीणों से मुलाकात की। उन्होंने किसानों से अपील की कि देशव्यापी किसान आंदोलन में ग्राम स्तर पर खाद्य सामग्री के साथ दिल्ली के बार्डर पर ज्यादा से ज्यादा संख्या में पहुंचें। जब तक किसान आंदोलन खत्म नहीं होता तब तक इस आंदोलन में भाग लेते रहें। जो आंदोलन देश के अंदर चल रहा है वह किसानों के साथ साथ आमजन पर आने वाले खाद्य आपूर्ति संकट से बचाने के लिए जरूरी है। अगर आने वाले समय में चंद पूंजीपति लोग खाद्य पदार्थों पर अपना कब्जा कर लेंगे तो आम जनता के लिए अपना पेट भरना बहुत मुश्किल हो जाएगा क्योंकि मौजूदा सरकार जिस प्रकार से खाद्य पदार्थों को खरीदने के लिए उद्योगपतियों प्रोत्साहित कर रही है तो आने वाले समय में ऐसे हालात पैदा हो जाएंगे कि आम जनता पेट्रोल को 100 रुपये में खरीदने पर मजबूर है उसी प्रकार आटा भी सो रुपये किलो खरीदने पर मजबूर हो जाएगी और देश की जनता भुखमरी की शिकार हो जाएगी। भाकियू प्रदेश महासचिव रणबीर फौजी घिकाड़ा ने कहा कि एक तरफ तो मौजूदा सरकार किसानों से आनलाइन पंजीकरण करवाती लेती है लेकिन पंजीकरण करवाए गए किसानों की भी पूरी फसल खरीदने की बजाय मात्र कुछ फीसद फसल खरीद कर खानापूर्ति की जाती है। पूरे देश के किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद की गारंटी कानून को अमलीजामा पहनाने के लिए आंदोलनरत हैं। इस मौके पर रामसिंह, धर्मेंद्र, सुरेंद्र सांगवान, जगदीश घिकाड़ा, ओमप्रकाश धानक, प्रताप, विजय ठेकेदार, नरेंद्र अशोक नंबरदार, रणधीर प्रजापत, राजकुमार धनखड़, रणबीर सांगवान, रणसिंह, युवा मीडिया प्रभारी रविद्र घिकाड़ा, संजय मानकावास, रिटायर्ड फोरमैन वेदप्रकाश, प्रह्लाद, पूर्व सरपंच नरेंद्र फतेहगढ़, कृष्ण, राजेश, धूप सिंह, अनिल, राजवीर, रामपाल इत्यादि भी मौजूद रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप