जागरण संवाददाता, भिवानी : हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की कक्षा 10वीं का परीक्षा परिणाम शुक्रवार शाम घोषित किया गया। जिला में टॉप थ्री में 14 बच्चे रहे जिनमें 10 लड़कियां और चार लड़के शामिल रहे। इनमें से कोई इंजीनियर, सीए तो कोई प्रशासनिक सेवा में जाकर देश सेवा करने का इच्छुक है। जिले में पहले पायदान पर सर्वपल्ली राधाकृष्णन स्कूल की छात्रा छवि 500 में से 494 अंक लेकर रही। आदर्श सीसे स्कूल बवानीखेड़ा के योगेश और भाखड़ा के बीडीएन हाई स्कूल की पायल 495-495 अंक लेकर दूसरे स्थान पर रहे। तीसरी पोजीशन पर 11 बच्चे रहे। टॉपर छात्रा छवि प्रशासनिक सेवा में पहुंच कर सेवा कार्य करना चाहती है। इंजीनियर बन देश सेवा करना चाहती हूं : मान्या

मुझे खुशी है कि 494 अंक लेकर मैं जिला में तीसरी पोजीशन पर रही हूं। मैं और मेरी बड़ी बहन मुस्कान दादी के पास रहती हैं। मेरी इस उपलब्धि में दादी पूर्ण देवी, 12वीं में पढ़ रही बड़ी बहन मुस्कान, अध्यापिकाओं आशा मुंजाल व पुष्पा मेहता के अलावा सबसे अहम रोल मेरे ताऊजी मनोज कुमार का रहा है। मेरे गुरुजी दिनेश और दूसरे गुरुजनों ने जो मेहनत कराई वह काबिलेतारीफ है। इसके अलावा मैने घर पर रह कर हर रोज पांच से छह घंटे अतिरिक्त पढ़ाई की। यह मुकाम दिलाने में सहयोग के लिए मैं सबका आभार प्रकट करती हूं।

- मान्या, शिशु भारती हाई स्कूल, प्राप्तांक 494, जिला में तीसरी पोजीशन

प्रशासनिक सेवा मेरी प्राथिमकता : निधि

पिता प्रदीप खेतीबाड़ी करते हैं और मां नीलम गृहणी हैं। स्कूल समय से अलग घर पर भी मैने पांच से छह घंटे पढ़ाई की है। 494 अंकों के साथ 10वीं में मैने जिला में तीसरी पोजीशन और स्कूल में प्रथम स्थान हासिल किया है। इसकी बहुत खुशी है। मैं प्रशासनिक सेवा में जाकर सेवा करना चाहती हूं।

- निधि, पीजी सीनियर सेकेंडरी स्कूल नंदगांव, प्राप्तांक 494 मैं सीए बनना चाहता हूं : पवन

मुझे खुशी है मेरी मेहनत रंग लाई और 494 अंकों के साथ जिला में तीसरा स्थान मिला। मैं और ज्यादा मेहनत करके सीए की तैयारी करना चाहूंगा और इसी क्षेत्र में नया मुकाम बनाऊंगा। हम दो भाई हैं मेरा बड़ा भाई संजू 12वीं में पढ़ता है। पिता राजेश परचून की दुकान चलाते हैं और मां बबली गृहणी हैं। इस मुकाम तक पहुंचाने में मेहनत के अलावा मेरे माता पिता और गुरुजनों को श्रेय देना चाहूंगा।

पवन, एनएसजी हाई स्कूल, प्राप्तांक 494 बैंकिग क्षेत्र में सेवा करना मेरा उद्देश्य : राखी

मैं बैंकिग क्षेत्र में बड़ी उपलब्धि के साथ सेवा करना चाहती हूं। जिला भर में 494 अंकों के साथ तीसरा स्थान मिलना मेरे लिए खुशी की बात है। मेरे पिता अजय शर्मा ट्रांसपोर्ट में काम करते हैं। मां पिकी गृहणी हैं। स्कूल समय के अलावा मैने प्रतिदिन पांच से छह घंटे घर पर तैयारी की है। माता पिता गुरुजनों का मैं आभार प्रकट करती हूं।

राखी नौरंगाबाद, शीलगिरी सूरतगिरी हाई स्कूल बामला, प्राप्तांक 494

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021