जागरण संवाददाता, भिवानी:नगर परिषद के 19 पार्षदों ने शहर में पानी, सड़क व सीवरेज समस्या को लेकर उपायुक्त के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। साथ ही उन्होंने स्थानीय भाजपा विधायक की कार्यशैली पर भी सवाल उठाए हैं। उधर विधायक ने भी इन पार्षदों पर पलटवार करते हुए कहा कि कुछ लोग राजनीति चमकाने के लिए जानबूझकर इस तरह के आरोप लगा रहे हैं। पार्षद हर्षदीप डुडेजा के नेतृत्व में दिए गए ज्ञापन में एक ओर भिवानी के विकास के लिए दी गई सहायता राशि के लिए आभार जताया है तो दूसरी ओर शहर के विकास के लिए अन्य विभागों को दी गई राशि का सही उपयोग न होने का आरोप भी लगाया है। इस मौके पर ललित सैनी, संदीप भारद्वाज, पन्नू मस्ता, प्रवीण मास्टर, विजय तंवर, नरेन्द्र तंवर, ज्योति कामरा, बलवान, बिल्लू बादशाह, मांगेराम शर्मा, सुरेन्द्र पूनिया, हरिराम, रोशन लाल, अशोक जोगी, राजकुमार, पवन सैनी, दलबीर छोटू तथा मदनलाल जूसवाला और संजय दुआ, अंचल अरोड़ा, मनीष गुरेजा, जीतेन्द्र कुमार, नंद किशोर मौजूद थे।

ज्ञापन में कहा गया है कि जहां पांच साल पहले शहर की मुख्य सड़कों पर बरसाती पानी ठहरता था और गंदगी लोगों के घरों में जाती थी, आज भी स्थिति वैसी ही है। यहीं स्थिति सीवरेज सिस्टम की और सड़कों की है। इसके अलावा पीने के पानी के बारे में कहा गया है कि अधिकारियों की अनदेखी के चलते गंदा और बदबूदार पानी लोगों के घरों में आ रहा है। दुख इस बात है कि सम्बंधित अधिकारियों को इस बारे में बताने के बाद भी कोई समाधान नहीं किया जाता, इसीलिए शहर के लोग सड़क जाम करने तथा अधिकारियों को घेरने को मजबूर हो जाते हैं। ज्ञापन में कहा गया है कि ऐसी अव्यवस्था सरकारी अस्पताल, प्रधानमंत्री आवास योजना और ऐसी ही अन्य जन कल्याण योजनाओं को लेकर आम आदमी को परेशान किया जा रहा है।

------------

विधायक घनश्याम सर्राफ पर भी उठाए सवाल

मुख्यमंत्री मनोहरलाल के नाम दिए गए ज्ञापन में भिवानी के भाजपा विधायक घनश्याम सर्राफ की कार्य प्रणाली पर भी सवाल उठाए गए हैं। ज्ञापन में कहा गया है कि सार्वजनिक समस्याओं के बारे में विधायक घनश्याम सर्राफ को भी अवगत करवाया है। पर वे सीएम विडो में शिकायत डालने की सलाह दे देते हैं। उनका कहना है कि जिले के अधिकारी उनकी सुनते और मानते नहीं है। इन पार्षदों ने ज्ञापन के माध्यम से मुख्यमंत्री से प्रगतिशील और जनहित सोच वाले युवा पार्षद को आगामी विधानसभा चुनाव में टिकट देने की भी मांग की गई है।

-----------

विधायक ने नकारे आरोप

विधायक घनश्याम सर्राफ ने आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा कि कुछ पार्षद जानबूझ कर अपनी राजनीति चमकाने के लिए इस तरह के आरोप लगा रहे हैं। मेरे प्रयासों से शहर के विकास के लिए 125 करोड़ रुपये नगर परिषद में आ चुके हैं। 60 करोड़ रुपये के अमृत योजना के तहत टेंडर छोड़े जा चुके हैं। लेकिन इन पार्षदों के इन बेबुनियाद आरोपों से कुछ नहीं होने वाला है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप