जागरण संवाददाता, बहादुरगढ़ :

टीकरी बार्डर पर साढे़ चार करोड़ से नाला निर्माण का कार्य शुरू हो गया है। यह एक तरह से दिल्ली और हरियाणा का साझा प्रोजेक्ट है। इसके जरिये दिल्ली की सीमा पर गंदगी दूर होगी। यहां पर आधा किलोमीटर तक सफाई हो रही है। साथ ही जो पुराना नाला बहादुरगढ़ में बना हुआ है, उसको भी तोड़ा जा रहा है। सिचाई विभाग इस पर काम कर रहा है। पैसा दिल्ली सरकार की ओर से वहन किया जाएगा। दरअसल, दिल्ली की बार्डर पर बसी कालोनी और मार्केट से निकलने वाला यह गंदा पानी हाइवे पर जमा होता है। इसकी दिल्ली के अंदर ही निकासी के लिए कोई रास्ता नहीं था। ऐसे में दिल्ली पीडब्ल्यूडी विभाग की ओर से बहादुरगढ़ के रास्ते इसका समाधान खोजा गया। दिल्ली के अंदर टीकरी बार्डर मेट्रो स्टेशन से लेकर बहादुरगढ़ में सेक्टर-नौ मोड़ तक हाइवे के साथ-साथ नाला बन रहा है। इस नाले के जरिये गंदे पानी की निकासी मुंगेशपुर ड्रेन में हो जाएगी। नाले का निर्माण डिपोजिट वर्क के आधार पर हो रहा है। इस नाले की लंबाई करीब छह हजार फीट होगी। यह नाला दिल्ली-रोहतक रोड के एक तरफ से बनेगा। कुछ हिस्से में यहां पर नाला पहले से बना है। मगर वह ठप है। पुराने नाले का जो हिस्सा मेट्रो स्टेशन के आसपास दुरुस्त है, उसे जोड़ते हुए नया नाला बनेगा। इसकी गहराई तीन फीट से लेकर साढ़े छह फीट तक होगी। इस नाले के बनने से दिल्ली की सीमा में रहने वाली गंदगी की समस्या दूर हो जाएगी। वर्जन.

इस नाले का निर्माण तय समय सीमा में कराया जाएगा। यह पैसा दिल्ली की तरफ से जमा कराया गया है। ठेकेदार को कार्य में गुणवत्ता बनाए रखने के निर्देश दिए गए हैं।

-देवेंद्र सिंह, एसडीओ, सिचाई विभाग, बहादुरगढ़

Edited By: Jagran