जागरण संवाददाता, अंबाला : छावनी के मछली मोहल्ले में नगर परिषद की टीम ने मानकों के पूरे न होने के चलते मीट की 20 से 25 दुकानों पर ताला जड़ दिया। इस दौरान सड़क किनारे मुर्गे के जाल को जब्त किया गया। सचिव ने इस दौरान मीट की दुकानदारों को सरकारी मानक पूरे करने के आदेश दिए और बिना लाइसेंस के दुकान दोबारा खोलने पर कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी।

वीरवार को टीम लेकर मच्छी मोहल्ले पहुंचे नगर परिषद सचिव ने यहां पर मीट का कारोबार करने वाले दुकानदारों से हेल्थ डिपार्टमेंट की ओर से जारी होने वाला लाइसेंस दिखाने को कहा। इस पर ज्यादातर दुकानदार बहाने बनाने लगे और अलग-अलग तर्क देने लगे। क्षेत्र में गंदगी फैलने और सरकारी नियमों के अनुसार दुकान न चलाने वाले 25 दुकानदारों की दुकानें बंद करा दी। इस दौरान सचिव राजेश कुमार ने दुकानदारों को कहा बिना लाइसेंस व्यापार संचालित करने का प्रयास करने पर प्रशासनिक स्तर से कड़ी कार्रवाई करने की चेतावनी दी। उनका कहना था कि अगर मीट का कारोबार जगह-जगह अलग अलग बाजारों में न करके एक केंद्रित बाजारों में ही होना चाहिए इससे बीमारी के फैलने और इससे शाकाहारी लोगों को होने वाली समस्या से बचाना आसान होगा।

----------------------

फोटो 43

फोन कर अधिकारी से पूछा, किस नियम के तहत ले गए चाबी

इस कार्रवाई के बाद दुकानदार ओंकार सिंह से मिलें। इसको लेकर इनेलो नेता ने विरोध किया और बिना नोटिस के दुकानें बंद करवाने को बताया एतराज जताया। इनेलो प्रदेश प्रवक्ता ओंकार सिंह से मिलने पहुंचे मीट कारोबारियों की समस्या का संज्ञान लेते हुए नगर परिषद की कार्रवाई आपत्ति जताई। कहा कि दुकानदारों को बिना नोटिस के समान उठाकर बेहद गलत कदम है। 12 क्रास रोड व रामबाग रोड से मीट-मछली की दुकानों को बंद करवा कर चाबी साथ ले जाना किस नियम के तहत संभव है यह कोई भी अधिकारी नही बता सकता। मीट विक्रेताओं की मांग पर सचिव व कार्यकारी अधिकारी से फोन करके पूछा कि आप किस नियम के तहत दुकान बंद करवा कर चाबी साथ ले गये हैं। इस पर विभाग कोई संतोषजनक जवाब नही दे सका। सुबह कमेटी आकर मामला सुलझाने की बात कही गयी। ओंकार सिंह ने कार्रवाई पर की निदा करते हुए दुकानदारों के अधिकार सुरक्षित करने के लिए लड़ाई लड़ने की बात कही।

Edited By: Jagran