जागरण संवाददाता, अंबाला

छावनी रेलवे स्टेशन पर प्लेटफार्म नंबर-2 पर बुधवार सुबह चलती ट्रेन से उतरते समय करीब 25 साल युवक लोहित एक्सप्रेस ट्रेन की चपेट में आ गया। बामुश्किल युवक की जान बची तो घायल अवस्था में उसे ट्रेन नीचे पटरियों से निकाला गया। रेलवे अस्पताल में डॉक्टर को आने की सूचना दे दी गई, लेकिन काफी देर तक डॉक्टर घायल को देखने के लिए स्टेशन पहुंचा ही नहीं।डॉक्टर का इंतजार करते-करते युवक की हालत बिगड़ने लगी तो उसे एंबुलेंस में छावनी के नागरिक अस्पताल में दाखिल करवाया गया। यहां से प्राथमिक उपचार के बाद उसे चंडीगढ़ पीजीआइ में रेफर कर दिया लेकिन बीच रास्ते में दम तोड़ दिया। पीजीआइ में डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया।

मृतक युवक की शिनाख्त संदीप ¨सह निवासी गांव सोहसा गुडायल थाना परीच जिला गोरखपुर उत्तर प्रदेश के रूप में हुई। मृतक का पोस्टमार्टम बृहस्पतिवार को अंबाला छावनी अस्पताल में परिजन आने के बाद करवाया जाएगा।हुआ यूं कि संदीप ¨सह अपने एक जानकार के साथ गोरखपुर से जम्मू जाने वाली लोहित एक्सप्रेस में छावनी आया था। यहां उसे कोई जरूरी काम था और वह इससे पहले भी यहां कई बार आ चुका था। करीब साढ़े 8 बजे ट्रेन छावनी रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर-2 पर पहुंची। संदीप चलती हुई ट्रेन से उतरने लगा तो सीढ़ी से उसका पैर फिसल गया और वह ट्रेन के साइड में बची हुई जगह में से गिरकर पटरियों के बीच जा पहुंचा। चलती ट्रेन के पहियों की चपेट में आने के कारण वह बुरी तरह से लहूलुहान हो गया। सूचना मिलते ही ट्रेन को इमरजेंसी ब्रेक लगाकर रोका गया और जीआरपी-आरपीएफ कर्मियों ने मौके पर पहुंचकर पटरियों में घायल पड़े युवक को बाहर निकाला। युवक को प्लेटफार्म से स्टेशन परिसर में बाहर ले आए और रेलवे अस्पताल से डॉक्टर के आने का इंतजार करते रहे। लेकिन आधे घंटे तक डॉक्टर नहीं आने के कारण घायल की हालत बिगड़ गई जिससे कि उसे नागरिक अस्पताल में ले जाया गया। लेकिन उसे वहां से पीजीआई रेफर कर दिया जहां पहुंचने से पहले उसकी मौत हो गई। सूचना पाते ही जीआरपी कर्मी पीजीआइ पहुंचे और शव को अपने साथ छावनी नागरिक अस्पताल में लाकर शव गृह में रखवा दिया। बृहस्पतिवार सुबह उसके परिजन अंबाला आएंगे जिसके बाद पोस्टमार्टम की कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।जांच अधिकारी एएसआइ राजकुमार ने बताया कि इस मामले में फिलहाल इत्तेफाकिया हादसे की कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

Posted By: Jagran