जागरण संवाददाता, अंबाला शहर : चोरी के मामले में जेल में बंद चल रहे हवालाती ने अदालत के बक्शीखाने में आत्महत्या करने का प्रयास किया। आरोपित ने बक्शीखाने के अंदर चारदीवारी के साथ सिर मारा। इसके साथ ही गर्दन को भी नाखूनों से खरोंच दिया। ऐसे में आरोपित लहूलुहान हो गया। पुलिसकर्मियों ने आरोपित को इलाज के लिए सिविल अस्पताल में पहुंचाया। इसके साथ ही आरोपित के खिलाफ आत्महत्या करने के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर लिया।

पुलिस को दी शिकायत में जसबीर सिंह ने बताया कि वह प्रिजनर एस्कार्ट गार्द इंचार्ज के तौर पर तैनात है। वीरवार अपने साथी कर्मी के साथ 19 हवालातियों को सेंट्रल जेल अंबाला से अंबाला शहर में अलग अलग अदालतों में पेशी के लिए 10 बजे अदालत परिसर आया था। सभी हवालातियों को अदालत परिसर में बक्शीखाने में बंद कर दिया था। दोपहर ढाई बजे कुछ हवालातियों को पेश करने के लिए कर्मचारी अलग-अलग अदालतों में गए हुए थे। कुछ हवालाती बक्शीखाने में बंद थे, जिनमें से एक हवालाती 21 साहिल निवासी वाल्मीकि बस्ती सढौरा यमुनानगर ने बक्शीखाने के अंदर ही बाथरूम में जाकर अपना सिर दीवार में मारा और लहूलुहान होकर बाथरूम में से बाहर निकला तो गेट पर बैठे संतरी ने उसकी हालत देखकर अन्य को सूचित किया। कर्मचारियों की मदद से हवालाती साहिल को बक्शीखाने से बाहर निकाला और सिविल अस्पताल अंबाला शहर पहुंचाया। जहां पर डाक्टर ने इलाज उपरांत हवालाती साहिल को लगी चोटों की एमएलआर तैयार की। हवालाती को इलाज करवाकर अदालत में पेश करने उपरांत जेल भेज दिया गया। साहिल चोरी के एक मामले में जेल में बंद है।

Edited By: Jagran