लोकतंत्र के चुनावी यज्ञ में भाग लेना अहम है। यह और भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है, जब कोई अपना पहला वोट डाल रहा हो। पहले वोट की कीमत और उत्साह दोनों ही महसूस होती है। पहली बार यदि वोट दे रहे हैं, तो प्रत्याशी के एजेंडे पर फोकस करना चाहिए। ऐसा न हो कि लुभावने वायदों में फंसकर कोई अपना कीमती वोट किसी ऐसे प्रत्याशी को डाल दे, जो इसका हकदार ही न हो। मैंने तो तय कर लिया है कि प्रत्याशी और उसका एजेंडा स्पष्ट होगा और जनता व देश के हित में होगा, उसे ही वोट दूंगी। हर युवा वोटर, जो पहली बार वोट दे रहा है सोच समझकर ही प्रत्याशी को वोट अवश्य दे।

-तनु, बीकॉम द्वितीय वर्ष

Posted By: Jagran