जागरण संवाददाता, अंबाला : 134 ए के पंसदीदा प्राइवेट स्कूल में दाखिला लेना अभिभावकों के लिए गले की फांस बना हुआ है। पहली अलॉट में ही बच्चे का नाम लिस्ट में आने के बाद जैसे-तैसे स्कूल में दाखिला भी ले लिया और यूनिफार्म तक लेकर कक्षाएं भी लगानी शुरू कर दी। अचानक रिवाइज लिस्ट के अंदर दूसरा स्कूल अलॉट देखकर प्रबंधन ने छात्र को बाहर का रास्ता दिखा दिया। ऐसे ही दो मामले छावनी के बीईओ कार्यालय में सामने आए।

एक मामला लार्ड महावीर स्कूल से जुड़ा था तो दूसरा माइंड ट्री का। अभिभावकों ने बीईओ नीलम आनंद के सामने दाखिला रुकवाने का दुखड़ा रोया। छावनी के कृति नगर निवासी बलदेव ने बताया कि बेटे अभिनव के 83 प्रतिशत अंक आने के बाद पहली लिस्ट में लार्ड महावीर जैन स्कूल अलॉट हो गया था। काफी भागदौड़ के बाद जाकर तो दाखिला मिला, यहां तक कि स्कूल की यूनिफार्म, किताबें तक खरीदकर कक्षा में भेजना शुरू कर दिया था। तीन दिन कक्षा में बैठने के बाद बृहस्पतिवार को अचानक स्कूल ने बच्चे का नाम काट दिया। पूछने पर बताया कि विभाग द्वारा जारी रिवाइज लिस्ट में बच्चे को डीएवी रिवरसाइड स्कूल अलॉट किया हुआ है। अभिभावकों का कहना था कि शिक्षा विभाग की तरफ से उन्हें कोई मैसेज ही नहीं आया। अब तो स्कूल में दाखिले की तिथि भी खत्म हो चुकी है। इसी तरह अंबाला शहर के माइंड ट्री स्कूल से पहुंचे गुरविद्र सिंह ने भी अपने बच्चे का दुखड़ा रोया। बीईओ के आश्वासन के बाद अभिभावक मायूस हो कर लौट गए।

------

मेरे संज्ञान में दोनों मामले आए थे। डीएवी रिवरसाइड स्कूल में दाखिले के लिए संबंधित स्कूल में बोल दिया गया है। माइंड ट्री स्कूल के मामले में बातचीत कर ही कोई समाधान निकाला जाएगा।

नीलम आनंद, बीईओ, ब्लॉक टू अंबाला छावनी

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस