संवाद सहयोगी, नारायणगढ़(अंबाला : तीन युवकों की ओर से शिकार करने के दौरान बड़ी कोहड़ी गांव के नजदीक जंगल में शुक्रवार देर शाम गोली लगने से 25 वर्षीय इसरान की मौत के मामले में शनिवार को जमकर हंगामा हुआ। परिजनों ने पोस्टमार्टम के बाद नागरिक अस्पताल में पुलिस कार्रवाई से नाखुश होकर जमकर बवाल काटा। मृतक के परिजन व ग्रामीण हत्या के मुख्य आरोपित दो बार विधानसभा के चुनाव लड़ चुके राम ¨सह कोड़वा के बेटे हरनेक ¨सह को गिरफ्तार करने की बात पर अड़े रहे। गुस्साई भीड़ ने शव को अग्रेसन चौक के पास हाईवे के बीचोंबीच रखकर जाम लगा दिया। एसपी के नहीं पहुंचने पर नारायणगढ़ एसडीएम मौके पर पहुंची और लोगों को सोमवार तक तीसरे आरोपित को गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया। इसके बाद जाम खुला और परिजनों ने शव उठाया। पुलिस के पहरे में शव को दफनाया गया। वहीं घटनास्थल जंगल का होने के कारण शहजादपुर थाने में हरनेक ¨सह, चरणजीत व इकबाल के खिलाफ हत्या सहित अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया गया है।

यह है मामला

गौरतलब है कि दो बार विधानसभा चुनाव लड़ चुके राम ¨सह कोड़वा का बेटा हरनेक ¨सह दोस्त चरणजीत निवासी लांडरा (मोहाली) और इकबाल ¨सह निवासी पटियाला के साथ वासलपुर गांव से सटे जंगलों में शिकार के लिए गया था। यह तीनों दोस्त जंगल में ही पेड़ों पर रस्सियों से बांधी गई चारपाई पर बैठे थे। अंधेरा होने के कारण देर शाम इन्होंने सुनसान जंगल में कुछ आवाज सुनी तो उन्होंने गोली चला दी। यह गोली नदी की ओर से वापस घर आ रहे इसरान खान को लगी। उस दौरान उसके दो चचेरे भाई भी मौजूद थे जो गोली की आवाज सुनकर जमीन पर लेट गए। जब तीनों दोस्त मौके पर पहुंचे तो लहूलुहान इसरान जमीन पर बेसुध पड़ा था। तीनों दोस्त उसके दोनों चचेरे भाइयों के साथ इसरान को गाड़ी में डालकर गांव की ओर चल दिए। लेकिन बीच रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। यह देख हरनेक ¨सह मौके से फरार हो गया और दो अन्य दोस्तों को गांव वालों ने मौके पर ही पकड़ लिया। पुलिस ने शव रात को ही मोर्चरी में रखवा दिया था।

पोस्टमार्टम के बाद डेढ़ घंटे जाम रहा हाईवे

शनिवार सुबह ही मृतक के परिजन, रिश्तेदार व गांव के काफी लोग अस्पताल में पहुंच गए। पोस्टमार्टम के बाद परिजनों ने स्ट्रेचर पर शव को रखकर अस्पताल परिसर में ही पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करनी शुरू कर दी। इसके बाद वह शव को लेकर अग्रसेन चौक पर पहुंच गए और चारों तरफ शव हाईवे के बीच रखकर जाम लगा दिया। काफी संख्या में पुलिस बल व डीएसपी अमित भाटिया खुद मौके पर पहुंचे। उन्होंने गुस्साई भीड़ को शांत कराने का प्रयास करते हुए आरोपित को गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया परंतु परिजन नहीं माने। लोगों ने कहा कि पुलिस पहले इस मामले के मुख्य आरोपित हरनेक ¨सह को गिरफ्तार करे। इसके बाद नारायणगढ़ एसडीएम अदिति मौके पर पहुंचीं और उन्होंने सोमवार तक आरोपित को गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया। करीब डेढ़ घंटे बाद जाम खुला और परिजन शव गांव में लेकर गए।

वहीं लोगों ने यह भी आरोप लगाए कि कुछ दिन पहले भी उनके गांव का एक मामला नारायणगढ़ थाने में दर्ज हुआ था और पुलिस ने उस मामले में से आ‌र्म्स एक्ट और हत्या के प्रयास की धारा ही हटा दी है।

जल्द गिरफ्तार होगा आरोपित

सूचना मिलते ही देर रात को ही पुलिस मौके पर पहुंच गई थी और दो आरोपित गिरफ्तार कर लिए हैं। तीन युवकों पर हत्या, आ‌र्म्स एक्ट समेत अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है। तीसरे आरोपित को भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उसके लिए टीमों का गठन करके आरोपित के पीछे लगा दिया है।

अमित भाटिया, डीएसपी।

Posted By: Jagran