जागरण संवाददाता, अंबाला : हाउ¨सग बोर्ड चौकी पुलिस ने हाथीखाना मंदिर के साथ लगाए गए झूले से गिरकर मरने वाली दो युवतियों के मामले में दूसरे आरोपित सागर को गिरफ्तार कर लिया है। नाराज परेशान सोमवार को चौकी में भी पहुंचे, लेकिन चौकी इंचार्ज न मिलने पर बैरंग लौट गए। परिजनों ने कहा कि पुलिस मामले में आरोपितों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करे।

बता दें कि सावन शिवरात्रि के दिन हाथीखाना मंदिर के पास एक झूला लगाया गया था और उसके बाद तीज के दिन रंगिया मंडी की रहने वाले दो बहनें इस झूले पर झूलने के लिए आई थी। झूलों के मालिक और चालक ने इस मामले में लापरवाही बरती जिसके चलते जिस झूले में दोनों युवतियां बैठी थी वह तकनीकी दिक्कत के चलते फंस गया। दोनों युवतियां पक्की सड़क पर गिर पड़ी। इस हादसे में दोनों युवतियों ने दम तोड़ दिया था। इस मामले में पुलिस ने मृतक युवतियों की शिकायत पर कुर्बान और सागर के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। पुलिस इस मामले में यमुनानगर के हमीदा निवासी कुर्बान को गिरफ्तार कर चुकी है तो वहीं सागर फरार चल रहा था। दोनों ही आरोपित अब इस मामले में एक दूसरे को ही इस घटना का जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। आरोपित कुर्बान का कहना है कि उसने झूला सागर को दिया हुआ था और वह उसे चला रहा था। दूसरी तरफ चौकी पुलिस की गिरफ्त में आएं आरोपित सागर ने कुर्बान को इसको जिम्मेदार ठहराया है। आरोपित सागर ने खुद को बेकसूर बताते हुए तर्क दिया है कि वह जमुना जवाहर मंदिर के बाहर मौजूद था। झूले को कुर्बान ही चला रहा था। अब पुलिस के लिए यह जांच का विषय बन गया है कि आखिर दोनों आरोपित में से कौन झूले का चला रहा था? मौजूद लोगों ने यह भी कहा कि जिस दिन की घटना है उस दिन जमुना जवाहर मंदिर के बाहर कोई प्रोग्राम नहीं था। ऐसे में मामला काफी पेचीदा हो गई है और परिजनों ने मौके पर मौजूद लोगों से भी इस संबंध में पूछताछ शुरू कर दी है कि आखिरकार झूले को चला कौन रहा था।

Posted By: Jagran