जागरण संवाददाता, अंबाला / नारायणगढ़ :

गांव जोली स्थित प्राथमिक एग्रीकल्चर क्रेडिट कोआपरेटिव सोसायटी पर शुक्रवार रात डीसी द्वारा गठित स्पेशल टीम ने सील कर दिया। इसके बाद यहां पुलिस का पहरा भी लगा दिया गया है। बताया जा रहा है कि सोमवार को टीम दोबारा यहां आकर पूरे रिकार्ड को अपने साथ लेकर जाएगी। इस मामले में जोली पैक्स प्रबंधक समिति ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल को पैक्स में हो रहे भ्रष्टाचार के बारे में जानकारी दी थी। साथ ही संपूर्ण आडिट की गुहार भी सीएम से लगाई गई है। इसी पर कार्रवाई करते डीसी के आदेशों पर टीम का गठन किया गया। इसमें नायब तहसीलदार नारायणगढ़, एसडीओ पब्लिक हेल्थ, नारायणगढ़ थाना प्रभारी शामिल थे। इसी टीम ने पैक्स को सील कर दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार जोली पैक्स प्रबंधक समिति 24 दिसंबर 2021 को चुनी गई थी। चुनाव के बाद जनवरी माह में नवगठित कमेटी ने प्रबंधक से वेतन रजिस्टर मांगा जिसे प्रबंधक ने देने से इंकार कर दिया। इसी पर विवाद खड़ा हो गया। पैक्स प्रबंधक कमेटी का आरोप है कि पैक्स में भारी अनियमितताएं बरती गई हैं। छह कर्मचारियों की गलत नियुक्ति की गई है। इसके अलावा प्रबंधक भी तय वेतन से ज्यादा ले रहे हैं। जिन छह सदस्यों को बतौर कर्मचारी रखा गया है उनमें से तीन पुरानी प्रबंधक कमेटी के सदस्यों के रिश्तेदार हैं जबकि तीन पुरानी चेयरमैन के सगे संबंधी हैं। इन सभी को तय वेतन से ज्यादा वेतन दिया जा रहा है। कमेटी ने मांग करते हुए कहा है कि उन्हें यह बताया जाए कि यह पैसे कैसे कहां से आ रहा है, किसके आदेशों पर इन छह कर्मचारियों की नियुक्ति कब और कैसे हुई। 14 गांव के युवाओं को मिलनी चाहिए नौकरी

प्रबंधक कमेटी के सदस्यों की मानें तो यह पैक्स 14 गांव की है। नियमानुसार इन सभी गांव में से ही युवाओं को नौकरी पर रखा जाना चाहिए लेकिन इस पैक्स में सभी नियमों को ताक पर रखकर नियुक्तियां की गई। इस मामले की शिकायत रजिस्ट्रार फर्म एंड सोसायटी, डिप्टी रजिस्ट्रार कोओपरेटिव सोसायटी कुरुक्षेत्र, जनरल मैनेजर सेंट्रल कोआपरेटिव बैंक अंबाला शहर व सहायक रजिस्ट्रार कोआपरेटिव सोसायटी से की थी। आरोप हैं कि इसके बावजूद इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसके बाद ही इस मामले की शिकायत मुख्यमंत्री को की गई।

Edited By: Jagran