जागरण संवाददाता, अंबाला शहर : दस करोड़ के चावल घोटाले में पुलिस ने तफ्तीश तेज कर दी गई है। सबसे पहले पुलिस विभाग से पत्राचार कर घोटाले का पूरा रिकार्ड लेगी। उसके बाद कानूनी प्रक्रिया अमल में लाई जाएगी। आरोपितों को गिरफ्तार किया जाएगा। दो मिल संचालकों ने एक एग्रीमेंट के तहत हरियाणा एग्रो इंडस्ट्रीज और हैफेड से एक एग्रीमेंट के तहत जीरी ली थी लेकिन उसकी एवज में चावल नहीं लौटाए। इनमें से मिर्जापुर की गगन राइस मिल के खिलाफ मंगलवार केस दर्ज किया जा चुका है जबकि दूसरे पर कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। शहर के सदर थाने में यह मामला दर्ज किया गया है। विभाग के 21 हजार क्विंटल चावल हड़पे गए हैं। जानकारी के मुताबिक एग्रो इंडस्ट्रीज से 2014-15 में हेराफेरी के मामले में केस दर्ज किया जा चुका है। 2017-18 में हैफेड से ठगी की जांच विचाराधीन है।

------

यह हुआ था घोटाला

- सरकार ने चावल की कीमत 2336.72 निर्धारित की थी। गगन राइस मिल संचालक ने 3 करोड़, 84 लाख, 60 हजार रुपये के चावल नहीं लौटाए। इस प्रकार 5 फीसदी के हिसाब से 19 हजार का वैट भी लगाया गया है। 11.83 फीसदी की दर से ब्याज लगा है। इस मामले में सरकार को 5 करोड़ 39 लाख 384 रुपये का चूना लगाया गया।

------

दूसरी हेराफेरी

- इस मामले में मिल संचालक ने हैफेड के चावलों की 52 गाड़ियां वापस नहीं लौटाई। 2017-18 में मिल संचालक ने हैफेड से जीरी ली थी। 12 हजार क्विंटल चावल वापस नहीं लौटाया। हैफेड के मैनेजर वेदपाल इस बारे 5 जून को एसपी अंबाला को शिकायत दे चुके हैं। आरोपों की जांच जारी है।

------

दस्तावेजों की जांच के बाद होगी कार्रवाई

- जांच अधिकारी एएसआइ विजय कुमार के मुताबिक एसपी आफिस से आई फाइल के बाद केस दर्ज किया गया है। सबसे पहले विभाग से पत्राचार कर दस्तावेज एकत्रित किए जाएंगे। उसी आधार पर कानूनी प्रक्रिया अमल में लाई जाएगी।

-------

Posted By: Jagran