फोटो : 4, 5

जागरण संवाददाता, अंबाला : नगर निगम सदर जोन में निवर्तमान मेयर रमेश लाल मल का आफिस नवनियुक्त आयुक्त जयबीर ¨सह आर्य को भा गया। आयुक्त ने न सिर्फ साफ-सफाई कर कार्यालय बना दिया बल्कि बुधवार सुबह होमगार्ड के जवान को भी बैठा दिया गया ताकि कोई भी व्यक्ति या कर्मी आयुक्त के कार्यालय में एक तो दाखिल न हो सके और दूसरा टायलेट इस्तेमाल न कर सके। इसी रोक से निगम कार्यालय में काम करने वाली महिला कर्मियों के साथ कर्मचारी परेशान हो गए हैं क्योंकि निगम का स्टाफ मेयर के चेंबर के साथ में बने हुए टॉयलेट को इस्तेमाल कर रहे थे। लेकिन सुबह से किसी को अंदर दाखिल नहीं होने दिया गया।

निगम कार्यालय में आने वाली जनता के साथ-साथ स्टाफ की सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि यहां पर कोई भी टॉयलेट नहीं है। इसीलिए मेयर चेंबर के साथ अटैच टायलेट से महिला कर्मियों को खासकर काफी राहत मिली हुई थी। निगम कार्यालय में महज एक टायलेट है जिसकी हालात काफी खराब है और साफ-सफाई के अभाव में उसमें पांव तक नहीं रखा जा सकता। इसके अलावा निगम कार्यालय में दूसरे टायलेट का निर्माण कार्य बीते दो साल से चलते आ रहा है जिसका काम आज तक पूरा नहीं हुआ है। इसीलिए निगम स्टाफ और आम जनता को दिक्कत हो रही है। कुछ कर्मियों ने तो निगम कार्यालय के गेट और स्टोर को शौचालय बना रखा है। खुले में शौचमुक्त अभियान के दावे निगम कार्यालय में ही टूट रहे हैं और निगम अधिकारी अपनी सुविधाओं में किसी तरह की कोई कोताही बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं। मेयर ने अपने कार्यकाल के दौरान किसी तरह के टायलेट इस्तेमाल पर कोई पाबंदी आज तक नहीं लगाई थी लेकिन नवनियुक्त आयुक्त ने महज दो दिन बैठने के लिए कई रोक लगा दी हैं।

Posted By: Jagran