जागरण संवाददाता, अंबाला : प्रधानमंत्री ने जेवर में जहां इंटरनेशनल एयरपोर्ट की सौगात दी है वहीं अंबाला में भी डोमेस्टिक एयरपोर्ट की ओर तेजी से कदम बढ़ रहे हैं। प्रदेश के गृह मंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट के लिए भी काम किया जा रहा है। उम्मीद है कि जल्द ही योजना धरातल पर उतरेगी, जबकि यह प्रोजेक्ट रोजगार के रास्ते तो खोलेगा। इसके साथ ही कारोबारियों को भी इसका फायदा मिलेगा। इसको लेकर काफी समय से हलचल हो रही थी।

उल्लेखनीय है कि करीब तीन साल पहले डोमेस्टिक एयरपोर्ट की घोषणा मंत्री अनिल विज ने की थी। इसके बाद प्रशासनिक अधिकारियों ने इसके लिए जमीन तलाशने के लिए सर्वे भी कराया। छह गांवों से जमीन को लेकर बातचीत भी हुई, लेकिन यह सिरे नहीं चढ़ पाई। इसी साल प्रशासनिक अधिकारियों और सेना के अफसरों के बीच बैठक हुई, जिसमें तय किया गया कि मामा-भांजा पीर के नजदीक एयरफोर्स स्टेशन के साथ लगती जमीन पर एयरपोर्ट बनाया जाएगा। इसमें चर्चा हुई थी कि एयरपोर्ट का एक रास्ता सड़क की ओर जबकि दूसरा रास्ता वायुसेना स्टेशन के भीतर से खोला जाएगा ताकि वायुसेना की हवाई पट्टी का प्रयोग कर जहाजों का आवागमन किया जा सके। इसके बाद से इस ओर तेजी से काम किया जा रहा है।

-------------

वीसी के माध्यम से हो चुकी है बैठक

अंबाला कैंट में डोमेस्टिक एयरपोर्ट को लेकर वीडियो कांफ्रेंसिग से बैठक भी हो चुकी है। इसमें सिविल एविएशन विभाग से एडिशनल चीफ सेक्रेटरी (एसीएस) ने भाग लिया, जबकि एयरफोर्स अथारिटी व अन्य अधिकारी भी शामिल हुए। इसमें एयरपोर्ट को लेकर हुई कार्रवाई को लेकर चर्चा हुई थी। इस दौरान एयरपोर्ट अथारिटी आफ इंडिया की कार्यकारी निदेशक को भी इस मामले में दिशा निर्देश दिए गए थे। इस मीटिग में सीईओ एयरपोर्ट अथारिटी चंडीगढ़ से भी पदाधिकारी शामिल हुए थे।

-------------

रक्षा मंत्री से विज ने की थी मुलाकात

डोमेस्टिक एयरपोर्ट को लेकर प्रदेश के गृह मंत्री अनिल विज ने रक्षा मंत्री राजनाथ से भी मीटिग की थी। इस मीटिग में प्रोजेक्ट पर चर्चा हुई थी, जबकि इसके बाद इस मामले में तेजी से काम शुरु हुआ था। माना जा रहा है कि यह प्रोजेक्ट जल्द ही धरातल पर उतरेगा।

-------------

इस तरह से होगा फायदा

अंबाला कैंट में डोमेस्टिक एयरपोर्ट बनने के लिए कारोबारियों को काफी फायदा होगा। अंबाला की साइंस इंडस्ट्री का कारोबार विश्व भर में फैला है। इसी तरह उत्तर भारत की सबसे बड़ी थोक कपड़ा मंडी भी अंबाला शहर में है। इसके अलावा अंबाला एजुकेशन और मेडिकल हब के रूप में भी विकसित हो रहा है। ऐसी स्थिति में अंबाला में आवागमन काफी सुलभ होगा। इसके अलावा युवाओं के लिए सर्विस सेक्टर में रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे।

Edited By: Jagran