Move to Jagran APP

Haryana: पेंशन के लिए अब नहीं लगाने होंगे चक्कर, परिवार पहचान पत्र से 81 हजार दिव्यांगों को मिली पेंशन

Haryana हरियाणा में व्हाट्सएप बाट ताऊ से पूछो पर संवाद कर कोई भी व्यक्ति अपनी समस्या का समाधान करा सकता है। परिवार पहचान पत्र के माध्यम से 81 हजार दिव्यांगों की पेंशन अपने आप शुरू हो गई है।

By Sudhir TanwarEdited By: MOHAMMAD AQIB KHANPublished: Thu, 25 May 2023 06:44 PM (IST)Updated: Thu, 25 May 2023 06:44 PM (IST)
Haryana: परिवार पहचान पत्र से अपने आप बनी 81 हजार दिव्यांगों की पेंशन : जागरण

चंडीगढ़, राज्य ब्यूरो: हरियाणा में परिवार पहचान पत्र के माध्यम से 81 हजार दिव्यांगों की पेंशन अपने आप शुरू हो गई है। इसके साथ ही प्रदेश में दिव्यांग पेंशनभोगियों की संख्या एक लाख तीन हजार से बढ़कर एक लाख 84 हजार हो गई है। व्हाट्सएप बाट 'ताऊ से पूछो' पर संवाद कर कोई भी व्यक्ति अपनी समस्या का समाधान करा सकता है।

दिव्यांगजन आयुक्त राजकुमार मक्कड़ ने बताया कि प्रदेश सरकार ने दिव्यांग पेंशन को भी परिवार पहचान पत्र से जोड़कर आटोमेटिक रूप से पेंशन बनाने की दिशा में कदम बढ़ाया है। परिवार सूचना डेटा में 60 प्रतिशत से अधिक दिव्यांग के रूप में सत्यापित दिव्यांगों के प्रासंगिक डेटा को हर महीने हरियाणा परिवार पहचान प्राधिकरण द्वारा प्रमाणित किया जाएगा। सत्यापन के बाद पात्र पाए गए ऐसे सभी दिव्यांगजनों का डेटा योजना विभाग द्वारा निर्धारित पात्रता मानदंड के अनुसार सेवा विभाग के साथ साझा किया जाएगा।

इसके बाद सेवा विभाग के जिला अधिकारी पेंशन शुरू करने के लिए इन नागरिकों की सहमति लेने के लिए उनके पास जाएंगे। सहमति प्रदान करने वाले सभी दिव्यांगों की अगले महीने से पेंशन शुरू कर दी जाएगी। इससे दिव्यांगों को योजना का लाभ लेने के लिए कार्यालयों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.