संवाद सहयोगी, शहजादपुर

सीएचसी शहजादपुर में उपचार के अभाव में हुई महिला की मौत के मामले में जहां पांच डाक्टरों को सस्पेंड किया जा चुका है, वहीं सोमवार को निदेशक स्वास्थ्य विभाग डा. असरुद्दीन ने दौरा किया और डाक्टरों के बयान लिए। डाक्टरों ने जहां अपनी बात रखी, वहीं निदेशक को स्थिति के बारे में बताया।

दूसरी ओर माजरा शहजादपुर के एक प्रतिनिधिमंडल ने सीएचसी शहजादपुर के एसएमओ डा. तरुण प्रसाद के खिलाफ एक पत्र निदेशक को सौंपा, जिसमें गंभीर आरोप लगाते हुए सस्पेंड करने की मांग रखी। -------- यह है मामला बीते दिनों माजरा शहजादपुर निवासी ललिता अपने घर पर गीले कपड़ों को सूखा रहीं थीं। इसी दौरान बिजली के मीटर का तार टूटकर उस पर पर गिर गया। करंट लगने से महिला बुरी तरह झुलस गई, उसे स्वजन सीएचसी शहजादपुर लेकर आए। यहां पर डाक्टर उपलब्ध नहीं था, जिसके कारण महिला की मौत हो गई थी। इसी को लेकर पीड़ित पक्ष ने जहां सीएचसी में ही धरना प्रदर्शन किया, वहीं ड्यूटी से गायब रहे डाक्टरों पर कार्रवाई की मांग भी की थी। प्रारंभिक जांच में पाया गया था कि नाइट ड्यूटी पर जो डाक्टर तैनात रहे, वे समय से पहले ही अपनी ड्यूटी आफ कर चली गईं। इसी तरह जिन डाक्टरों ने सुबह अपनी ड्यूटी ज्वाइन करनी थी, वे समय पर नहीं पहुंचे। इसी के चलते पांच डाक्टरों को सस्पेंड कर दिया गया था। -------------- एसएमओ पर लगाए गंभीर आरोप

दूसरी ओर माजरा शहजादपुर का एक प्रतिनिधिमंडल निदेशक से मिला। इस दौरान उनको एक पत्र सौंपा, जिसमें एसएमओ डा. तरुण प्रसाद पर गंभीर आरोप लगाते हुए उनको सस्पेंड करने की मांग की है। आरोप लगाया गया है कि एसएमओ समय पर नहीं आते, जबकि महिला की मौत के मामले में भी एसएमओ को फोन पर सूचित किया, लेकिन वे घंटों बाद पहुंचे। इतना ही नहीं इस पत्र में कई गंभीर आरोप लगाए गए हैं। प्रतिनिधिमंडल ने मांग की कि एसएमओ डा. तरुण प्रसाद को इस मामले में सस्पेंड किया और उनके खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई की जाए। ------------ महिला की मौत के मामले में जांच शुरू की है। इस दौरान सस्पेंड किए गए सभी डाक्टरों के बयान दर्ज किए गए हैं। ग्रामीणों का प्रतिनिधमंडल भी मिला था। इस संबंध में रिपोर्ट बनाकर सौंपी जाएगी।

- डा. असरुद्दीन, निदेशक स्वास्थ्य विभाग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस