जागरण संवाददाता, अंबाला : लगातार तीन छुट्टियों के चलते छावनी में सफाई व्यवस्था चरमरा गई है। जगह-जगह कूड़े के ढेर लगे हैं। मंगलवार को नगर निगम के सफाई कर्मचारी काम पर लौटे तो उम्मीद थी कि कूड़ा शाम तक उठ जाएगा। लेकिन सफाई कर्मचारी वेतन न मिलने से हड़ताल पर चले गए। उन्होंने कूड़ा नहीं उठाया। नगर निगम का डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन का ठेकेदार भी जांच में फंसा है। इसीलिए छावनी में आम जनता से गंदगी से बेहाल है।

छावनी के आउटर लार्ज रोड पर डॉ.कौशिक चौक पर तो गंदगी से भरे कूड़ेदान में आग लगी हुई थी जिसके चलते रोड से गुजरने वाले वाहन चालकों को खासकर महिलाओं को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ा। लेकिन नगर निगम की सफाई ब्रांच को मामले की कोई भनक नहीं लगी। इतना ही नहीं डंपिग ग्राउंड से कूड़ा न उठने पर ठेकेदार पर भी सफाई ब्रांच की ओर से कोई कार्रवाई नहीं की गई है। इसी प्रकार तेली मंडी चौक, बाबू खान अहाता के पास पुलिया पर, निकलसन रोड के सामने सार्वजनिक शौचालय, एचडीएफसी बैंक के नजदीक, बस स्टैंड के सामने, 12 क्रॉस रोड, 10 क्रॉस रोड और पुल चमेली, डॉ.हरे दरवाजे वाले से पहले प्याऊ चौक समेत अन्य जगहों पर गंदगी से बुरा हाल है। कुछ दिनों से तो अंबाला जगाधरी नेशनल हाईवे पर नाले से निकाली गई गाद केडी अस्पताल के सामने रोड किनारे पड़ी हुई है। लेकिन नगर निगम की सफाई ब्रांच को छावनी में गंदगी नजर नहीं आ रही है। छावनी के कच्चा बाजार निवासी ओमबीर, सुरेश कुमार, मोहित कौशिक, रामेश्वर शर्मा और संजीव मलिक ने बताया कि नगर निगम ठेकेदार को भारी भरकम पैसा कूड़ा उठाने की एवज में दे रहा है और जगह-जगह पर गंदगी के ढेर लगे हैं। बता दें कि शनिवार, रविवार और सोमवार को नगर निगम कार्यालय बंद होने से गंदगी उठाने का काम नहीं हुआ। इस मामले में नगर निगम के संयुक्त आयुक्त सत्येंद्र सिवाच को फोन कर पक्ष जानने की कोशिश की गई लेकिन उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस